जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सामाजिक समरसता का भाव संतों ने मुखरित किया। संतों ने सभी भेदभाव को मिटाने की मूल भावना पर देशाटन कर, हिंदू धर्म और वेदों की सभी वर्गों के साथ मिलकर रहने की शिक्षा दी। आर्यावर्त पर वैचारिक आक्रमण के कारण कलुषित मानसिकता का जन्म हुआ। निराकार ब्रह्म की निर्गुण स्वरूप के साथ सगुण देवोपासना की ओर सभी को एक सूत्र में पिरोने का कार्य आद्य जगतगुरु रामानंदाचार्य ने किया। संतों और महापुरुषों ने समाज के उत्थान के लिए सर्वस्व समर्पित किया। उक्त उद्गार नरसिंह मंदिर शास्त्री ब्रिज में आद्य जगतगुरु रामानंदाचार्य जयंती महोत्सव में मप्र गो संवर्धन बोर्ड के अध्‍यक्ष महामंडलेश्वर अखिलेश्वरानंद महाराज ने व्‍यक्‍त किए।

स्वामी डा. नरसिंहदास महाराज ने कहा कि नई पीढ़ी को सामाजिक समरसता और सनातन परापंराओं से परिचित कराना अनिवार्य है। भक्ति धारा के परमाचार्य, आद्य जगतगुरु रामानंदाचार्य जयंती महोत्सव में रामजी शरण, आचार्य अनूप दास महाराज, आचार्य भूपेंद्र प्यासी सहित संत महात्माओं के साथ प्रोफेसर वीणा तिवारी, आनंद राव, लालमणि, विष्णु पटेल, मनोज नारंग, एसएन शर्मा, सीए सुकेश के कुमार, संजय शास्त्री सहित श्रृध्दालुओं की उपस्थिति रही। वैदिक पूजन, मंत्रोच्चार, शांति पाठ गीताधाम के वेद पाठी छात्रों ने किया। मंच संचालन विध्येश भापकर आभार प्रदर्शन अशोक मनोध्याय ने किया।

संस्कृति शासनाचार्य महोत्सव पर विशेष आवरण लोकार्पित : आचार्यश्री विद्यासागर महाराज के 50 वें आचार्य पदारोहण दिवस के उपलक्ष्य में संस्कृति शासनाचार्य स्वर्ण महोत्सव मनाया जा रहा है। इस वर्ष को संग्रहनीय बनाने के लिए डाक विभाग द्वारा मुख्य पोस्ट आफिस के प्रांगण में चंद्रप्रभु दिगम्बर जैन मंदिर संगम कालोनी का विशेष लिफाफा, सील (मोहर) लगाकर लोकार्पित किया। ये लिफाफे देश के सभी प्रमुख पोस्ट आफिस में पहुंचेंगे एवं एक इतिहास के रूप में सुरक्षित रहेंगे।

संचालन मंदिर संरक्षक पवन जैन ने किया। कार्यक्रम में भारत सरकार के गेल सदस्य, सीए अखिलेश जैन, विधायक विनय सक्सेना ने गरिमामय उपस्थिति प्रदान की। इस अवसर पर आशीष जैन, डा. पीसी जैन, राजकुमार, रजनीकांत, पवन भाग्यश्री, राजकुमार, मनीष चंद्रा, कमल, हेमंत बांसल, मुन्ना भाग्यश्री, अरविंद बंडोल, स्वारित जैन का योगदान रहा। डाक विभाग से प्रवर अधीक्षक आरपीएस चौहान, मुख्य पोस्ट मास्टर एवं फिलेटलिस्ट विकास सिंघई आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local