जबलपुर। नगर निगम में 'अपनी ढपली, अपना राग' बजाया जा रहा है। आलम यह है कि सब इंजीनियर को जहां स्वास्थ्य विभाग का मुखिया बना दिया गया है। तो डॉक्टर से स्मार्ट सिटी में बाबूगिरी कराई जा रही है। राजस्व अधिकारी होते हुए भी निगम में राजस्व प्रभारी की पोस्ट खाली है। जो राजस्व अधिकारी है उसे कार्यालय अधीक्षक की जिम्मेदारी दे दी गई है। दरअसल नगर निगम के काम में कसावट लाने का हवाला देकर उन अधिकारियों को मनमर्जी से वह विभाग बांट दिए गए हैं जिस विभाग के बारे में अधिकारी न तो जरूरी योग्यता रखते हैं न उन्हें विभागीय काम की कोई जानकारी है। जिन्हें जिस काम में महारथ हासिल है उनसे दीगर काम कराए जा रहे हैं। जिसके चलते निगम की व्यवस्था सुधरने की बजाए और बिगड़ती जा रही है।

न निगम का खजाना भर रहा न सफाई ठीक से हो रही

नगर निगम में मनमर्जी से बांटे विभाग को खामियाजा नगर निगम के साथ ही नागरिकों को भी भुगतना पड़ रहा है। सब इंजीनियर से स्वास्थ्य विभाग का काम लिया जा रहा। लेकिन शहर की सफाई व्यवस्था में सालों बाद भी सुधार नहीं हो पाया है। शहर के कई क्षेत्र ऐसे हैं जहां रोजाना सफाई नहीं हो रही। कॉलोनी, मोहल्ले के लोग बीमार हो रहे हैं।

राजस्व

- नगर निगम में राजस्व प्रभारी की पोस्ट खाली पड़ी है। निगम में राजस्व अधिकारी की नियुक्ति भी की गई है। लेकिन उनसे राजस्व की जगह कार्यालयीन काम लिया जा रहा। राजस्व प्रभारी न होने से निगम का खजाना भी नहीं भर पा रहा। यह विभाग फिलहाल उपायुक्त संभाल रहे हैं।

ई-नगर पालिका

- नगर निगम में संपत्ति, जलकर से लेकर 131 मदों से होने वाली आय और नागरिकों को दी जाने वाली सेवाओं के लिए ई-नगर पालिका लागू कर दी गई है। पूरी व्यवस्था ऑनलाइन कर दी गई है। इस विभाग में आईटी एक्सपर्ट जरूरी हैं। लेकिन यह काम भी उपायुक्त के जिम्मे छोड़ दिया गया है।

ऐसे चल रहा काम

- जीएस चंदेल सब इंजीनियर हैं, लेकिन वे स्वास्थ्य अधिकारी की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

- वैभव श्रीवास्तव एमबीबीएस हैं। स्मार्ट सिटी में उनसे स्वच्छता सेल का काम लिया जा रहा है।

- आदित्य शुक्ला भवन शाखा में उपंयत्री थे उन्हें उद्यानिकी प्रभारी बनाया गया है।

- एचपी सिंह को कार्यालय अधीक्षक की जिम्मेदारी दी गई वह राजस्व अधिकारी हैं।

- राजेन्द्र दुबे को संभागीय अधिकारी बनाया गया है जबकि वह तृतीय श्रेणी कर्मचारी हैं।

- संतोष पटेल भी तृतीय श्रेणी कर्मचारी हैं उन्हें स्थापना प्रभारी बनाया गया है।

प्रशासनिक व कार्यालयीन कार्यों में कसावट लाने के उद्देश्य से अधिकारियों को विभागीय जिम्मेदारी सौंपी गई है। वह अच्छे से कार्य संपादन कर रहे हैं।

-आरके शर्मा, अपर आयुक्त व स्थापना नगर निगम

Posted By: Nai Dunia News Network