जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। केन्द्रीय प्रशासनिक अधिकरण (कैट) ने रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड को निर्देश दिए हैं कि डी-ग्रेड कर्मियों के लिए की जा रही भर्ती प्रक्रिया में दो पद रिक्त रखे जाएं। कैट के न्यायिक सदस्य रमेश सिंह ठाकुर व प्रशासनिक सदस्य नवीन टंडन की युगलपीठ ने कहा कि कोर्ट के अंतिम निर्णय तक इन पदों पर भर्तियां न की जाएं।

इसी के साथ रेलवे सहित अन्य को नोटिस जारी कर जवाब-तलब कर लिया गया। देवेन्द्र कोठारी व नीरज कुशवाहा ने दो अलग-अलग याचिकाएं दायर कीं। उनकी ओर से अधिवक्ता चैतन्य चंसोरिया, रामदास शर्मा, सुश्री हेमलता चौधरी व द्वारका वर्मा ने पक्ष रखा।

उन्होंने दलील दी कि, याचिकाकर्ताओं ने रेलवे के विज्ञापन के तारतम्य में डी-ग्रेड कर्मी के पदों के लिए आवेदन दिए। उक्त विज्ञापन में हेल्पर, इलेक्ट्रिकल पॉवर के लिए अभ्यर्थी की नेत्रदृष्टि बी-2 मेडिकल मानक नियत की गई। लेकिन याचिकाकर्ताओं के आवेदन यह कहते हुए निरस्त कर दिए गए कि बी-2 मेडिकल मानक वालों के लिए कोई पद नहीं हैं। दलील दी कि यह विज्ञापन की शर्तों का उल्लंघन है। प्रारंभिक सुनवाई के बाद कोर्ट ने आरआरबी, रेलवे सहित अन्य को नोटिस जारी कर जवाब-तलब कर लिया।

VIDEO : केरवा डैम में बहे दो युवकों की तलाश के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू,

रूठी पत्नी को मनाने के लिए नाग-नागिन का टैटू गुदवाया पर वो मायके से लौटने को राजी नहीं

Posted By: Nai Dunia News Network