जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। उत्तर प्रदेश से भटककर ग्वारीघाट पहुंची मानसिक विक्षिप्त युवती को पुलिस ने उसके स्वजन को सौंप दिया है। ग्वारीघाट में लावारिस हालत में घूमते हुए युवती पुलिस को मिली थी। उस समय वह अपना नाम व पता नहीं बता पाई। पुलिस ने उसे ग्वारीघाट थाना में ऊर्जा महिला हेल्प डेस्क पहुंचाया। हेल्प डेस्क के प्रयासों से युवती के स्वजन का पता चला और उन्हें उसके जबलपुर में सुरक्षित होने की सूचना दी।

ऊर्जा डेस्क प्रभारी उप निरीक्षक रितु उपाध्याय ने बताया कि डायल 100 को सूचना मिली थी कि पुराना रेलवे स्टेशन के पास एक युवती सुनसान जगह पर संदिग्ध हालत में घूम रही है। सूचना मिलते ही डायल 100 में तैनात प्रधान आरक्षक प्रभुनाथ यादव मौके पर पहुंचे और युवती से बातचीत करने का प्रयास किया। कैंट सीएसपी भावना मरावी भी मौके पर पहुंची और उन्होंने युवती को हेल्प डेस्क के सुपुर्द कर दिया। घटना की जानकारी पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा को दी गई। उन्होंने उसके स्वजन का पता लगाते हुए सुरक्षित घर तक पहुंचाने के निर्देश दिए।

इंटरनेट की मदद ली: ऊर्जा डेस्क प्रभारी उपाध्याय ने बताया कि युवती से पूछताछ की गई। घंटों की मशक्कत के बाद उसने गोंडा जिला उत्तर प्रदेश से आना बताया। जिसके बाद इंटरनेट के माध्यम से गोंडा के पुलिस थानों का नंबर पता किया गया। मनकापुर थाना में बात की गई तो पता चला कि युवती की गुमशदुगी वहां दर्ज है। जिसके बाद थाने से युवती के स्वजन का मोबाइल नंबर लेकर उन्हें उसके जबलपुर में होने की सूचना दी गई। स्वजन जबलपुर पहुंचे और युवती को लेकर रवाना हो गए।

ट्रेन पर सवार होकर पहुंची थी: स्वजन ने बताया कि उनके घर के पास रेलवे स्टेशन है। आठ अक्टूबर को युवती बिना कुछ बताए घर से निकल गई थी। जिसके बाद से वे पुलिस के सहयोग से उसकी तलाश में जुटे थे। युवती ने बताया कि वह ट्रेन पर सवार होकर जबलपुर पहुंची थी। युवती के स्वजन की पतासाजी में ग्वारीघाट थाना प्रभारी भूमेश्वरी चौहान समेत अन्य जवानों की भूमिका रही।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local