जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। हर साल हजारों दो पहिया वाहन चालक की सड़क दुर्घटना में मौत होती है। अधिकतर दुर्घटनाओं की मुख्य वजह दो पहिया वाहन चालक द्वारा हेलमेट न पहनना है। वाहन चालक अक्सर यह सोचते हैं कि हेलमेट को लेकर पुलिस सख्त कार्रवाई करती और जुर्माना भी वसूलती है, लेकिन यहां हम भूल जाते हैं कि पुलिस सिर्फ आप की सुरक्षा के लिए यह काम करती है। हेलमेट पहनने से आप और आपका परिवार परिवार सुरक्षित होता है। यह बात यातायात विभाग के एएसआइ और विशेषज्ञ घनश्याम चौधरी ने कही।

नईदुनिया का सड़क सुरक्षा अभियान के तहत महाराजपुर के विंग्स कांवेंट स्कूल में यातायात नियमों की जानकारी देने पाठशाला लगाई गई । इस अवसर पर बड़ी संख्या में स्कूल के विद्यार्थियों ने न सिर्फ यातायात नियमों की जानकारी ली बल्कि इससे जुड़ी अपनी जिज्ञासाओं को विशेषज्ञ के साथ सवाल-जवाब के जरिए दूर भी किया गया।

सिर्फ अभियान से न जोड़े सड़क सुरक्षा नियम

इस अवसर पर स्कूल के प्राचार्य राजेंद्र राय, शिक्षक विपुल पाल समेत बड़ी संख्या में शिक्षक, छात्र मौजूद रहे। यातायात नियमों की जानकारी देते हुए एएसआइ घनश्याम चौधरी ने सड़क पर चलने के दौरान रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में बताया। उन्होंने छात्र और छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि सड़क पर पैदल चल रहे हों या फिर वाहन से। सड़क पर चलने के नियमों पालन करना अति अवाश्यक है। अक्सर हम नियमों को नजर अंदाज कर देते हैं, जिसका हमें खामियाजा भुगताना पड़ता है। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए हेलमेट न पहनने बल्कि अपनी सुरक्षा के लिए हेलमेट पहनने।

सर, पुलिस और हमारी क्या जिम्मेदारी है

सवाल- जवाब के सेशन के दौरान विद्यार्थियों ने यातायात नियमों के बारे में पूछा। इस दौरान एक छात्र ने पूछा कि पुलिस और हमारी क्या जिम्मेदारी है। इस पर विशेषज्ञ ने बताया कि सड़क पर नियमों से चलना राहगीर की जिम्मेदारी है और इसका पालक बेहतर तरीके से हो, यह पुलिस की जिम्मेदारी है। इस दौरान सड़क पर होने वाली वाहनों की जांच और सड़क दुर्घटनाओं के बाद लोगों की मदद से जुड़े नियमों की भी विस्तार से जानकारी दी गई। वहीं अंत में स्कूल के शिक्षक और शिक्षिकाओं को यह बताया गया कि वे विद्यार्थियों को सड़क के नियमों से जुड़ी जानकारी लगातार दें और यह बताएं कि इसका पालन कराना जरूरी है।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close