जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सोमनाथ से जबलपुर आ रही सोमनाथ एक्सप्रेस के एसी कोच में धुआं उठने के बाद जबलपुर मंडल से लेकर जोन और रेलवे बोर्ड तक हड़कंप मच गया है। कोरोनाकाल में जबलपुर मंडल की यह पहली घटना है, जब ट्रेन के एसी एच वन कोच में ऐसा धुआं उठा कि यात्रियों के केबिन में भर गया। इतना ही नहीं यात्रियों को केबिन छोड़कर भागना पड़ा। अब इस मामले की जांच शुरू हो गई है। जबलपुर रेल मंडल ने इसकी गंभीरता को देखते हुए विभागीय जांच तो बैठा दी है, लेकिन जांच अधिकारी उन विभागों के मुखिया को बनाया है जिनके अधिकारी और कर्मचारी दोषी हैं।

मैकेनिकल-इलेक्ट्रिकल विभाग ही कर रहा जांच : जानकारी के मुताबिक सोमनाथ के जिस कोच में आग लगी थी, उसे काटकर अलग कर दिया है। इसे जबलपुर के कोचिंग डिपो पहुंचा दिया गया है। अब जबलपुर रेल मंडल के ही मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल विभाग के प्रमुखों को इसकी जांच का जिम्मा दिया है। कोच के टायलेट की छत से निकल रहे धुआं को तो घटना स्थल पर भी शांत कर दिया गया था, लेकिन यह धुआं क्यों और किन कारणों से उठा, इसकी जांच शुरू हो गई है। विभागीय अधिकारी धुंआ निकलने वाली जगह में लगे सभी उपकरणों को निकलकर जांच कर रहे हैं।

क्या है घटना : इटारसी से जबलपुर की ओर आ रही सोमनाथ एक्सप्रेस को सालीचौका स्टेशन के पास खड़ा किया गया था। यहां पर कोच में लगे अग्नि शमन यंत्रों की मदद से टायलेट से निकल रहे धुएं को कुछ हद तक शांत किया गया। इसके बाद कोच के यात्रियों को दूसरे कोच में शिफ्ट किया और फिर ट्रेन को लेकर जबलपुर लाया गया था।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close