जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना काल के दौरान भी जबलपुर रेल मंडल ने अपनी उपलब्धियों में कोई कमी नहीं की। ट्रेन में टिकट जांच से लेकर यात्रा करने वाले का रिजर्वेशन कराने तक से अपनी आय में इजाफा किया। यह जानकारी जबलपुर रेल मंडल के डीआरएम संजय विश्वास ने दी। कोरोना काल के बाद ट्रेनों का संचालन पूरी रफ्तार से शुरू किया गया इतना ही नहीं स्पेशल चल रही ट्रेनों को साधारण ट्रेनों में तब्दील कर चलाया गया जिसका फायदा यह हुआ कि जबलपुर मंडल से गुजरने वाली और यहां से रवाना होने वाली ट्रेनों में बड़ी संख्या में रिजर्वेशन कराया।

अप्रैल से नवंबर माह तक मंडल ने 113 लाख यात्रियों को रेल यात्रा उपलब्ध कराई, जिससे 353 करोड़ रूपये की आय हुई। वहीं मंडल ने माल भाड़े से 1544.33 करोड़ रूपये कमाए। इतना ही नहीं कटनी से सिंगरोली रेल खंड में 48 किलो मीटर, सतना से रीवा खंड मे 22 किलो मीटर के ट्रैक दोहरी करण का कार्य किया गया। वहीं बीना से कटनी खंड में 61 किलोमीटर के खंड में तीसरी रेल लाइन बिछाई । जबलपुर स्टेशन के री डेवलपमेंट का कार्य पूर्ण हो गया है। वहीं 1230 किलो वाट के सोलर प्लांट से मंडल से बिजली बचत की।

रेलवे से लिया किराए पर दे दिया कोच रेस्टोरेंट: रेलवे की जमीन पर बन रहे रेस्टारेंट से आय होगी, लेकिन रेस्टोरेंट चलाने वाले ठेकेदारों से स्पष्ट कहा गया है कि यदि उन्होंने तय समझौते के नियमों का पालन नहीं किया तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। दरअसल जबलपुर रेलवे स्टेशन में बन रही रेल कोच रेस्टोरेंट में 12 दुकाने निकाली गई है। इन दुकानों को ठेकेदार द्वारा किराए पर दे दिया गया है । जिसको लेकर हंगामा मचा हुआ है। हालांकि रेलवे ने अब तक इस पर कोई एक्शन नहीं लिया है।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local