जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। लगातार तीन दिन से रुक-रुक कर हो रही झमाझम बारिश से पूरा शहर पानी से तर-बतर हो गया। वहीं, मंगलवार की सुबह भी शहर पर बादल छाए रहे। इसके बाद साढ़े 10 बजे के करीब धूप खिल गई। मौसम में नमी की मात्रा काफी ज्यादा होने की वजह से ठंडक घुली रही। दिन और रात का तापमान भी गिर गया है। मौसम का मिजाज नरम होने का लोग भी लुत्फ उठा रहे हैं। जबलपुर में अब तक 28 इंच से ज्यादा वर्षा दर्ज की जा चुकी है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में गरज चमक के साथ बारिश होने की संभावना जताई है। वहीं कई जगहों पर तेज बारिश भी हो सकती है। संभाग में मौसम विभाग ने आरेंज अलर्ट जारी कर रखा है।

गए। इधर मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि आने वाले 2 से 3 दिन भारी बारिश के संकेत हैं। कई क्षेत्रों में गरज चमक के साथ बौछारें भी पड़ सकती हैं । 7 से 8 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं भी चलेंगी।

लगातार हो रही बारिश की वजह से जबलपुर के तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है। अधिकतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस पर आ गया है, जो सामान्य से लगभग 5 डिग्री कम दर्ज किया गया है। न्यूनतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस कम था। 15 अगस्त को 2 इंच से ज्यादा बारिश दर्ज की गई। अभी तक जबलपुर में 30 इंच से ज्यादा बारिश दर्ज की गई है।

निम्न दबाव का क्षेत्र सक्रिय-

मौसम वैज्ञानिक के मुताबिक वर्तमान में पूर्वी मध्य प्रदेश के ऊपर अतिनिम्न दाब का क्षेत्र जबलपुर से 120 किमी पूर्व में सक्रिय है, जिसके पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर गतिमान रहने के साथ दुर्बल होने की संभावना बनी हुई है। पूर्वोत्तर अरब सागर और समीपवर्ती दक्षिणी पाकिस्तान में निम्न दाब क्षेत्र अभी भी सक्रिय है। जबकि मानसून ट्रफ जैसलमेर-गुना से लेकर सागर और डिप्रेशन के केंद्र से होते हुए बालासोर तथा पूर्वोत्तर बंगाल की खाड़ी तक विस्तृत है। उत्तर-दक्षिण ट्रफ लाइन , कर्नाटक से कोमरीन सागर तक गुजर रही है और दक्षिणी गुजरात से महाराष्ट्र तट तक अपतटीय ट्रफ (Off-shore Trough) सक्रिय है। अफगानिस्तान के आसपास मध्य क्षोभमंडल की पछुवा पवनों के बीच एक ट्रफ के रूप में पश्चिमी विक्षोभ (WD) भी अवस्थित है।

-अधिकतम तापमान 25.2

- न्यूनतम तापमान 23.1

- बारिश 2 इंच

- हवाएं 7 से 8 किलोमीटर प्रति घंटा

- आद्रता .098

- सूर्यास्त 6.42 शाम

नदी, तालाब, सड़कें भी भी लबालब-

सीजन में इस अच्छी वर्षा के चलते परियट, खंदारी जलाशय सहित नर्मदा नदी का जलस्तर भी बढ़ गया है। परियट जलाशय अपने अधिकतम 1390 मीटर को छू कर ओवरफ्लो हो गया है। वहीं बरगी बांध का जलस्तर भी अधिकतम 422 मीटर के करीब पहुंच रहा है। मेडिकल रोड, गढ़ा, चौहानी, नौदरा ब्रिज, मालगोदाम, सिविक सेंटर, इंदिरा मार्केट सहित अन्य सड़कों में वर्षाजल निकासी न होने से जलभराव के हालात बन गए हैं।

11.6 इंच ज्यादा हो चुकी वर्षा

गत वर्ष की तुलना में इस मानसून सीजन में 11.6 वर्षा अधिक रिकार्ड की जा रही है। सीजन में वर्षा का कुल आंकड़ा 719.3 मिलीमीटर तक पहुंच गया है यानी 28.3 इंच वर्षा हो चुकी है। गर्त वर्ष की बात करें तो अब तक 426.6 मिलीमीटर यानी 16 .7 इंच वर्षा हुई थी।

आर्द्रता - 95- 92

पूर्वानुमान

जबलपुर सहित संभाग में अनेक स्थानों पर गरज-चमक के साथ वर्षा व बिजली गिरने की संभावना है। कहीं-कहीं भारी से अत्याधिक वर्षा का आरेंज अलर्ट जारी किया गया है।

पूर्वानुमान - अधिकतम - न्यूनतम

जबलपुर

15 अगस्त - 29.0 - 23.0

16 अगस्त - 29.0 - 23.0

कटनी

15 अगस्त- 30.5- 23.6

16 अगस्त - 30.2 - 23.6

मंडला

15 अगस्त- 27.0 - 20.0

16 अगस्त - 28.0 - 21.0

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close