जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रायपुर-जबलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग-12ए को मप्र सड़क निर्माण निगम (एमपीआरडीसी) ने पहाड़ काटकर चौड़ा तो कर दिया है, लेकिन सड़क किनारे के ये पहाड़ खतरनाक साबित हो रहे हैं। बरेला मंदिर के आगे मंडला रोड पर स्थित नागा घाटी में भू-स्खलन अभी भी जारी है। यहां आएदिन बड़े-बड़े पत्थर पहाड़ से धंसक कर सड़क पर गिर रहे हैं। इससे न सिर्फ वाहन चालक बल्कि राहगीर भी चपेट में आ सकते हैं। पहाड़ काटने में बरती गई लापरवाही का खामियाजा लोग उठा रहे हैें। बारिश में यह स्थित और भी खतरनाक हो जाती है लेकिन बारिश बीतने के बाद भी भू-स्खलन जारी है।

-केवल सूचना बोर्ड लगायाः

एमपीआरडीसी ने नागा घाटी के नीचे और भू-स्खलन वाली जगह सूचना बोर्ड लगाए हैं लेकिन सुरक्षा के उपाय नहीं किए गए हैं जिसके कारण आए दिन पहाड़ से चट्टान और मिट्टी धंसककर सड़क पर आ जाती है। इसकी वजह से बड़े वाहनों सहित छोटे वाहनों के लिए खतरा बना हुआ है।

-पेड़ की कटाई भी वजहः

पहाड़ धंसने की मुख्य वजह पेड़ों की कटाई भी है। पहाड़ काटते समय निर्माण कंपनी ने पहाड़ के पेड़ भी धराशाही कर दिए। जिसके कारण पहाड़ों की कसावट समाप्त हो गई। पेड़ों की जड़ के सहारे जो पहाड़ व मिट्टी टिकी रहती थी वह अब बार-बार भू-स्खलन होकर दुर्घटना का कारण बन रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket