सिहोरा। पिछले एक माह से धान खरीदी के लिए किसानों के रजिस्ट्रेशन किए जा रहे थे, लेकिन रजिस्ट्रेशन पूरे होने के बावजूद खरीदी प्रारंभ न होने से किसान परेशान हैं। जिसके चलते गुरुवार को भारतीय किसान यूनियन के सदस्यों ने तहसीलदार सिहोरा को ज्ञापन सौंपा।

किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष रमेश पटैल, अश्विनी त्रिपाठी के साथ करीब 50 से अधिक किसानों ने तहसीलदार सिहोरा नीता कोरी को अपनी समस्याओं से अवगत कराया।

शासन द्वारा धान की खरीदी अभी तक प्रारंभ नहीं हो सकी एवं विद्युत आपूर्ति की स्थिति बद से बदतर है। ऐसी स्थिति में किसान को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। किसानों ने मांग है कि विगत वर्षों से शासन द्वारा कृषि उपज धान गेहूं के लिए केंद्र एवं उप केंद्रों को यथावत रखा जाए। जिससे किसानों को परिवहन एवं रखरखाव की समस्या न हो सके।

इस समय किसानों को 12 घंटे बिजली मिले

शासन के निर्देशानुसार विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित नहीं हो पा रही है। किसानों को निर्बाध 12 घंटे विद्युत आपूर्ति की जाए एवं विद्युत आपूर्ति कहीं फाल्ट होना कहीं तार का टूटना तो कहीं ट्रांसफार्मरों का खराब होने जैसी समस्याओं को तत्काल सुधारा जाए।

इन किसानों ने पहरेवा स्थित फोर लाइन मार्ग से सटा जुनवानी कला गांव से लमकना मार्ग परिवर्तित होने से यह मार्ग अत्यंत संकीर्ण हो गया है। किसानों को सड़क पार करने एवं कृषि उपज मंडी जाने में समस्या हो रही है। इस संबंध में किसानों ने 17 अक्टूबर को प्रशासन से शिकायत भी की थी। इस अवसर पर चंद्रजीत पटैल, संजय पटैल, आशीष पटैल, देवेंद्र पटैल, विनय पटैल, राजा पटैल, संदीप पटैल, गोलू पटैल, रंजीत पटैल, ललित पटैल, अभिषेक पटैल, बिक्की पटैल, भारत पटैल, जगन्नाथ पटैल, बजरंगी पटैल आदि मौजूद रहे।

.......

खरीदी केंद्र में फैली 50 हजार क्विंटल धान

मुर्रई। धान खरीदी केंद्र मुर्रई में करीब एक माह से खुले में 50 हजार क्विंटल धान पड़ी है। शासन ने 25 नवंबर से धान खरीदी होना थी, लेकिन खरीदी केंद्रों पर व्यवस्था न होने के कारण धान खरीदी की तारीख 2 दिसंबर की गई। उसके बाद भी खरीदी केंद्रों पर किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। आज तक किसी भी केंद्र में धान खरीदी शुरू नहीं की गई। जिससे किसानों का नुकसान हो रहा है। शीघ्र धान खरीदी की मांग विनोद सिंह राजपूत, धन्य कुमार पटेल, नारायण राजपूत, रामभरोस दुबे, मनोज राजपूत, मनोज गुप्ता आदि ने की है।

....

किसानों को सिंचाई के लिए रात में 2 से 6 बजे मिल रही बिजली

मुर्रई। बोरिया विद्युत मंडल के अंतर्गत आने वाले गांव के किसानों को सिंचाई के लिए रात में 2 बजे से सुबह 6 बजे तक दी जाती है। जिससे किसानों को खेत में रात रात भर लाइट का इंतजार करना पड़ता है। रात 2 बजे बिजली चालू होने के बाद कुछ देर चालू रखकर बंद कर दी जाती है। संपर्क करने पर कह दिया जाता है कि फाल्ट है। इस स्थिति में किसानों को पूरी रात जागना पड़ता है।

राजघाट पौड़ी में वित्तमंत्री ने तरुण भनोत ने आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में किसानों को दिन में 10 घंटे सिंचाई के लिए बिजली देने की घोषणा की थी। किसानों की समस्याओं को देखते हुए सिंचाई के लिए दिन में 10 घंटे बिजली दी जाए। मांग करने वालों में राजीव राजपूत, सुखराम पटेल, बबलू चौहान, गोविंद नारायण राजपूत, शैलेंद्र पटेल, सत्येंद्र ठाकुर, शिवराम पटेल आदि शामिल हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket