जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच ने आरोप लगाया कि देश में सबसे ज्यादा बिजली की लाइन मप्र में धाराशाही हुई है। इस संबंध में केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग, मप्र विद्युत नियामक आयोग को पत्र लिखकर शिकायत दी गई है। मंच की तरफ से दावा किया गया कि केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री तथा कौशल विकास एवं उद्यमशीलता राज्य मंत्री आर के सिंह ने लोकसभा में यह जानकारी पेश की। अक्टूबर 2016 से मार्च 2018 के बीच 200 केवी एवं उससे अधिक वोल्टेज स्तर की कुल 52 विद्युत टॉवर टूटकर गिरे है। वहीं विद्युत पारेषण लाईन जिनकी संख्या 29 है स्थापित करने के 5 साल के भीतर ही टूटकर गिर गई। रिपोर्ट में 75 फीसद टॉवर गिरने की वजह पारेषण लाइन में खराबी बताई गई है। इस वजह से करीब 250 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। पूरे मामले में जिम्मेदारों पर कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network