जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

मुख्य रेलवे स्टेशन की रिमॉडलिंग की तैयारियां शुरू कर दी है। इस काम के दौरान जबलपुर रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधा से लेकर अधारताल-मदनमहल स्टेशन की व्यवस्थाओं की समीक्षा शुरू हो गई है। पश्चिम मध्य रेलवे जोन के प्रभारी जीएम राजेश तिवारी (उत्तर पश्चिम रेलवे जोन) शुक्रवार को जयपुर से जबलपुर आ रहे हैं। वे जबलपुर मंडल और जोन की अधिकारियों की बैठक लेकर स्टेशन रिमॉडलिंग के कामों की समीक्षा करेगा।

इधर जबलपुर रेल मंडल ने अधारताल स्टेशन पर यात्री सुविधा बढ़ाने के लिए यहां एटीवीएम मशीन लगाने से लेकर स्टॉल, पानी, सफाई तक की व्यवस्था की जाएगी। इस संबंध में जबलपुर मंडल के कमर्शियल विभाग ने संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए हैं।

पब्लिक ट्रांसपोर्ट चलाने निगम और पुलिस की लेगा मदद

अधारताल स्टेशन तक जाने वाले रास्ते का निरीक्षण करने के बाद रेल अधिकारियों ने यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए नगर निगम, ट्रैफिक पुलिस से सहयोग मांगा है। पत्र लिखकर इस रूट पर पब्लिक ट्रांसपोर्ट और ऑटो की संख्या बढ़ाने कहा है, ताकि यात्रियों को स्टेशन तक जाने में किसी तरह की परेशानी न हो। दरअसल अधारताल चौराहे से स्टेशन तक की दूरी 6 किमी है, जिससे यहां तक पहुंचना आसान नहीं है।

पहले इंटरसिटी चलेगी, फिर एक्सप्रेस

अधारताल की व्यवस्थाओं को देखते हुए फिलहाल इस स्टेशन से इंटरसिटी ट्रेनों को ही शुरू करने कहा है। स्टेशन की रिमॉडलिंग के दौरान अधारताल स्टेशन से जबलपुर-सिंगरौली इंटरसिटी और जबलपुर-रीवा इंटरसिटी को चलाया जाएगा। वहीं लौटते वक्त इस ट्रेन को जबलपुर की बजाए अधारताल में ही रोका जाएगा। यह भी देखा जाएगा कि यात्रियों को क्या परेशानी आ रही है। यदि परेशानी नहीं होती है तो फिर दूसरे ट्रेनों को यहां से रवाना किए जाने की योजना है।

एटीवीएम लगाएं, सफाई कराओ

- अधारताल स्टेशन पर दो एटीवीएम मशीन लगाई जाए।

- यात्रियों की संख्या बढ़ाते ही स्टॉल भी बढ़ाए जाएंगे

- गर्मी को देखते हुए यात्रियों के पीने के लिए ठंडा पानी होगा

- स्टेशन की सफाई के लिए अस्थाई तौर पर ठेका भी दे दिया है

- गाड़ियों के आने-जाने की जानकारी के लिए उद्घोषणा की जाएगी

............

अधारताल स्टेशन में यात्रियों की सुविधा बढ़ाने के लिए काम किए जा रहे हैं, ताकि किसी तरह की परेशानी न हो। फिलहाल हम इस स्टेशन से इंटरसिटी को चलाने की योजना बना रहे हैं।

-बसंत शर्मा, सीनियर डीसीएम, जबलपुर रेल मंडल