जबलपुर, नईदुनिया रिपोर्टर art of Living Jabalpur भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल 29वीं वाहिनी मुख्यालय में छह दिवसीय आर्ट ऑफ लिविंग के कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया। जहां अधिकारियों और जवानों ने पहले दिन ऊर्जा के साथ शांति का अनुभव किया। आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा जमतरा स्थित भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल, 29वीं वाहिनी मुख्यालय में तनाव प्रबंधन पर चार से नौ मार्च तक छह दिवसीय आर्ट ऑफ लिविंग हैप्पीनेस प्रोग्राम शुरू हुआ। जिसका उद्घाटन द्वितीय कमान अधिकारी मसूद खान ने किया। जिसमें वाहिनी के 117 अधिकारी और जवानों ने उत्साह के साथ भाग लिया।

प्राणायाम और सुदर्शन क्रिया के लाभ बताए: आर्ट ऑफ लिविंग के वरिष्ठ प्रबंधक व मप्र राज्य मीडिया प्रभारी ऋतुराज असाटी और सुश्री रीना महोबिया ने प्रथम दिन के सत्र में प्रतिभागियों को रोचतक तरीके से मनुष्य के अस्तित्व के सात स्तरों से अवगत कराते हुए उनके आपसी समन्वय पर चर्चा की। ऊर्जा के स्त्रोतों के साथ श्वांस और मन के बीच के संबंध को बताते हुए ऋतुराज असाटी ने बताया कि किस तरह प्राणायाम और सुदर्शन क्रिया के माध्यम से सहज तरीके से हम अपनी जीवन ऊर्जा को अपने उच्चतम स्तर पर ले जो हुए सभी नकारात्मक विचारों और भावनाओं को सकारात्मकता से भर सकते हैं।

पंचकोष ध्यान शांति का अनुभव किया: पहले दिन के कार्यक्रम के अंत में रीना महोबिया ने सभी को दो शक्तिशाली प्राणायामों का अभ्यास कराया और ऋतु राज असाटी के निर्देशन में हुए पंचकोष ध्यान से सभी ने गहन शांति का अनुभव किया। बल मुख्यालय के निर्देशां पर इस कार्यशाला को देश के विभिन्न भागों में भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल के शिविरों में चलाया जा रहा है। इस हैप्पीनेस प्रोग्राम में जवानों के साथ कलीम मसूद खान, द्वितीय कमान, विक्रम सिंह उप सेनानी, सुबोध कुमार उप सेनानी व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Posted By: Sunil Dahiya

NaiDunia Local
NaiDunia Local