जबलपुर। मानसून की लेटलतीफी से एक तरफ जहां अन्नदाता किसान के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गईं हैं, वहीं बारिश की बेरूखी मनरेगा के मजदूरों के लिए फायदेमंद साबित हो रही है। क्योंकि जब तक बारिश नहीं होगी तब तक मनरेगा के मजदूर मिट्टी संबंधी काम कर सकेंगे।

दरअसल मनरेगा के तहत होने वाले तालाब, कुआं, मुरम रोड, मेढ़ बंधान सहित मिट्टी वाले काम बारिश के मद्देनजर 15 जून के बाद बंद हो जाते थे। शासन के निर्देश के तहत मजदूरों को न तो काम मिलता था न ही मस्टर रोल जारी होते थे। लेकिन इस बार बारिश न होने से राज्य शासन ने जिला पंचायत सीईओ को निर्देश जारी कर मजदूरों को मिट्टी वाले काम मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। लिहाजा मानसून की लेटलतीफी जहां किसानों के लिए परेशानी का सबब बन रही है वहीं मजदूरों इससे खुश हैं।

नए काम पर रोक-

बारिश का सीजन है कभी भी झमाझम हो सकती है। लिहाजा कोई जोखिम न लेते हुए राज्य शासन के निर्देश पर सीईओ जिला पंचायत शीलेन्द्र सिंह ने मिट्टी संबंधी नए कार्य स्वीकृत न करने के लिए कहा है। जो कार्य पहले से स्वीकृत हैं उन्हें कराने व मस्टर रोल जारी करने के लिए सीईओ जनपद पंचायत, संबंधित अधिकारियों व सरपंच, सचिव को निर्देश दिए हैं।