जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि । मोहर्रम, रक्षा बंधन, जन्माष्टमी एवं स्वतंत्रता दिवस पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों, आयोजनों, जलसे-जुलूस आदि के दौरान कानून व्यवस्था बनी रहे, इसके लिए पुलिस अधिकारी-कर्मचारी हमेशा चौकस रहें। संवेदनशील क्षेत्रों में पैदल गश्त कर लोगों से संवाद करें। इंटरनेट मीडिया में वायरल होने वाले मैसेजों पर नजर रखें और शांति व्यवस्था भंग करने वालों पर कार्रवाई करें।

यह निर्देश एडीजी उमेश जोगा ने पुलिस कंट्रोल रूम में डीआइजी आरआर सिंह परिहार एवं एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा की उपस्थिति में पुलिस अधिकारियों की बैठक में दिए हैं। बैठक में एडीजी ने आजादी का अमृत महोत्सव अंतर्गत 'हर घर तिरंगा" अभियान के संबंध में अब तक प्रतिदिन किए जाने वाले कार्यक्रम की जानकारी लेकर समीक्षा की और सभी को अभियान में शासन एवं पुलिस महानिदेशक के निर्देशानुसार कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। आगामी त्योहारों पर शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए प्रत्येक थाना क्षेत्र में शांति समिति, नगर रक्षा समिति के सदस्यों, धार्मिक गुरुओं, व्यापारियों एवं क्षेत्र के नागरिकों के साथ बैठक कर समस्याओं का पता लगाकर उनके निदान के निर्देश दिए है। बैठक में सभी एएसपी, सीएसपी, डीएसपी एवं अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद थे।

एनएसओ ने दी विश्वविद्यालय परिसर में आंदोलन की चेतावनी

जबलपुर । एनएसओ छात्र संगठन के प्रतिनिधिमंडल ने कुलपति के नाम मेडिकल विश्वविद्यालय में ज्ञापन सौंपा। संगठन के अध्यक्ष गोपाल पाराशर ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा एमबीबीएस, बीपीटी सहित अन्य संकाय के परिणाम घोषित करने में गड़बड़ी व लापरवाही की जा रही है। परिणाम घोषित करने में किसी परीक्षा में अनुपस्थित अभ्यर्थी को पास कर दिया जा रहा है तो किसी अभ्यर्थी को पूर्णांक से अधिक अंक दिए जा रहे हैं। ऐसे मामले उजागर होने के बावजूद जिम्मेदारों पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जा रही है।

बड़े पदों पर हो पीएससी से भर्ती-

एनएसओ की यह भी मांग है कि मेडिकल विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार, डिप्टी रजिस्ट्रार, एग्जाम कंट्रोलर, असिस्टेंट रजिस्ट्रार जैसे सभी जिम्मेदार पदों पर एमपी पीएससी के माध्यम से भर्ती की जाए। ताकि यहां योग्य अधिकारियों की पदस्थापना सुनिश्चित हो सके। इसी तरह से परीक्षा में एमबीबीएस, डेंटल, बीएएमएस, नर्सिंग, पैरामेडिकल सभी कोर्सेस के प्रोफेसर्स को एक समान अवसर दिए जाएं। संगठन का कहना है कि अगर अभी भी संगठन की मांगों पर उचित कार्रवाई नहीं की गई तो उसके द्वारा मेडिकल विश्वविद्यालय में आंदोलन किया जाएगा।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close