जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शासकीय विज्ञान महाविद्यालय में विश्व बैंक परियोजना के अंतर्गत स्वामी विवेकानंद करियर मार्गदर्शन प्रकोष्ठ द्वारा आनलाइन कार्यशाला का आयोजन किया गया। स्वरोजगार की विभिन्न तकनीकों व साइबर सिक्योरिटी पर आधारित इस पांच दिवसीय आनलाइन कार्यशाला में विषय विशेषज्ञों ने शामिल रहकर विद्यार्थियों को प्रशिक्षण दिया। पहले दिन प्रतीक्षा वासन ने विद्यार्थियों को विभिन्न प्रकार के साबुन बनान सिखया। इन साबुनों को कम लागत पर रसायनों के बिना आसानी से बनाया जा सकता है। साबुन बनाने की प्रायोगिक विधियों का भी प्रदर्शन किया गया। साथ ही मार्केटिंग कैसे की जाए इसकी जानकारी भी विद्यार्थियों को मिली।

संस्था के प्राचार्य डा.एएल महोबिया ने कहा कि विद्यार्थियों के लिए आवश्यक है कि वे कौशल विकास यानी अपने हुनर को निखारने की ओर ध्यान दें। सिर्फ किताबी ज्ञान से आज के समय में काम नहीं चलता, कुछ न कुछ हुनर होना और उसमें हर तरह से पारंगत होना आवश्यक है। अच्छा होगा यदि विद्यार्थी अपनी रुचि के अनुसार रोजगार चुने। जब किसी विषय में रुचि रहती है तब उसमें कार्य करते हुए नीरसता नहीं आती। और यही बात सफलता की ओर ले जाती है। जब तक किसी कार्य में रुचि नहीं होगी तब तक उस दिशा में उस तरह कार्य नहीं किया जा सकेगा जैसा कि होना चाहिए।नई शिक्षा नीति में भी भी कौशल विकास को बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है।

विवेकानंद करियर मार्गदर्शन प्रकोष्ठ की संयोजक डा. जया वाजपेई ने बताया कि जैविक खाद निर्माण के विषय में, खाद्य प्रसंस्करण व साइबर जागरूकता विषयों को विद्यार्थी जाने व समझें और इन्हें स्वरोजगार के रूप में अपनाएं इसलिए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया। विद्यार्थियों ने भी बढ-चढ़ कर इसमें सहभागिता की।

आयोजन को सफल बनाने में डा. मनीष शर्मा, प्रो. आरी पीएस चंदेल, डा. प्रशांत सेलट, डा. अंकिता बोहरे, डा. उषा मसराम व अन्य सदस्यों का सहयोग रहा।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local