जबलपुर,नईदुनिया प्रतिनिधि। विशेष न्यायाधीश बरखा दिनकर के न्यायालय ने नाबालिग को शादी का झांसा लेकर दुष्कर्म करने के आरोपित गोहलपुर निवासी राशिद मंसूरी का दोष सिद्ध पाया। इसी के साथ आजीवन कारावास की सजा सुना दी। साथ ही साढ़े पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया ।अभियोजन की ओर से सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी मनीषा दुबे ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि 22 दिसंबर, 2020 को नाबालिग को मेडिकल कालेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसने जहर खाकर जान देने की कोशिश की थी।

इस मामले में घमापुर पुलिस को सूचित किया गया। घमापुर पुलिस ने क्षेत्राधिकार न होने के आधार पर मामला गोहलपुर थाने भेज दिया। जिसके बाद प्रकरण पंजीबद्ध किया गया। नाबालिग की ओर से बताया गया कि वह पन्नी बीनने का कार्य करती है। इसी दौरान आरोपित से उसकी जान-पहचान हो गई। दोनों परस्पर प्रेम करने लगे। आरोपित ने वादा किया कि वह उसके साथ शादी करेगा। इसलिए वह उसके साथ पिछले छह माह से रह रही थी। इस दौरान वह दुष्कर्म को अंजाम देता था। साथ ही गोली भी खिला देता था। इससे नाबलिग के शरीर से बहुत खून निकलता था। एक दिन उसने शादी के लिए कहा तो आरोपित ने साफ इन्कार कर दिया। जिससे व्यथित होकर उसने जहर खा लिया था।

बिजली बिल बकायादारों के काटे कनेक्शन

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बिजली के बकायादारों के खिलाफ कनेक्शन काटने का सिलसिला शनिवार को भी जारी रहा। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के सिटी सर्किल के अंतर्गत आने वाले अधारताल संभाग द्वारा कनेक्शन काटने की कार्रवाई की गई। अधारताल संभाग के डीई आरके पटेल ने बताया कि उपभोक्ता हल्केराम पर 11 हजार 800 रुपये, लता पार्थिक पर 22 हजार 518 रुपये, सीता राम चौबे पर 12 हजार 569 रुपये, वीरेन्द्र विश्वकर्मा पर 16 हजार 282 रुपये और मकसूद अहमद पर 10 हजार 464 रुपये का बिजली बिल बकाया था। उक्त पांचों उपभोक्ताओं द्वारा लम्बे समय से बिल का भुगतान नहीं किया जा रहा था। उपभोक्ताओं को बिल जमा कराने के निर्देश दिए गए, लेकिन जब वे नहीं माने, तो उनके यहां डिस्कनेक्शन की कार्रवाई की गई।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close