जबलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मध्‍य प्रदेश का पहला डेयरी साइंस कॉलेज जबलपुर के इमलिया में खोला जाएगा। नानाजी देशमुख वेटरनरी विश्वविद्यालय प्रशासन ने नए कॉलेज के लिए जगह तय कर दी है। वहीं प्रदेश का दूसरा डेयरी साइंस कॉलेज ग्वालियर में खोला जाना प्रस्तावित है। यहां जमीन आवंटन पर अब तक निर्णय नहीं हो सका है।

किए जाएंगे अनुसंधान कार्य भी

कॉलेज में पशुपालन, दुग्‍ध उत्पाद, मूल्य संवर्धन से लेकर डेयरी से जुड़े अनुसंधान कार्य किए जाएंगे। खास बात है कि दोनों ही कॉलेजों की 60 सीटों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर इसकी प्रवेश परीक्षा होगी।

यह होगा फायदा

मध्यप्रदेश में दुग्ध उत्पादन अच्छी स्थिति में है। जबलपुर और उज्जैन में उत्पादन बड़ी मात्रा में होता है पर इसे बढ़ाने के लिए अनुसंधान नहीं हो रहा है। डेयरी साइंस कॉलेज की मदद से दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के साथ ही मूल्य संवर्धन पर भी काम किया जाएगा। पशुओं की नई प्रजातियों को विकसित कर दुग्‍ध उत्पादन की गुणवत्ता सुधारी जाएगी।

जगह तय कर दी है

विवि के नए डेरी साइंस कॉलेज के लिए इमलिया में जगह तय कर दी है। कॉलेज के लिए यह सबसे उपयुक्त जगह है। यहां पहले से ही वेटरनरी डिप्लोमा कॉलेज चल रहा है।

- प्रो. एसपी तिवारी, कुलपति, नानाजी देशमुख वेटरनरी विवि

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020