जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। न्यायालय दशम विशेष न्यायाधीश पॉक्सो जबलपुर ने नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपित पनागर निवासी गोलू उर्फ शुभम को 20 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई। साथ ही 21000 का जुर्माना भी ठोंका। अभियोजन की ओर से अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी स्मृतिलता बरकड़े ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि 12 वर्षीय पीड़िता ने थाना पनागर में शिकायत दर्ज कराई थी कि 24 दिसम्बर 2017 को दोपहर करीब 12 बजे वह अपने पापा से 10 रुपए लेकर समोसा लेने बस स्टैंड पनागर गई थी। उसी समय सुमित काछी रोशन और भोला आए और उससे बोले की उनके साथ घूमने चलो।

सुमित काछी अपनी मोटरसाइकिल में बैठा कर ले गया और दूसरी मोटरसाइकिल में भोला और रोशन आए। वे तीनों उसे ग्राम मुड़िया नहर के पास खेत में ले गए और नहर के पास झाड़ियों के बीच ले जाकर बारी-बारी से जबरदस्ती दुष्कर्म किया। उसने उन लोगों से कहा कि उसे छोड़ दें लेकिन वे नहीं माने। जब जोर-जोर से चिल्लाई तो पास के खेत में काम कर रहे दादा आ गए। उन्हें देखते ही तीनों आरोपित अपनी मोटरसाइकिल लेकर भाग गए।

जिस पर से पुलिस थाना पनागर जाकर धारा 363, 376(2)(आई), 376(डी) भादवि और 5-6 पॉक्सो एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्घ कराया गया। कोर्ट ने पूरे मामले पर गौर करने के बाद दोषसिद्घ पाकर सजा सुना दी। जुर्माने से प्राप्त राशि पीड़िता को वैध संरक्षक के माध्यम से प्रदान करने का आदेश भी न्यायालय द्वारा दिया गया।