जबलपुर। भाई -बहन के त्‍योहार रक्षाबंधन के पहले राखियों से बाजार गुलजार हो गए हैं। हर तरफ राखी,रूमाल और महिलाओं के श्रृंगार से दुकाने भरी हुई है। इस बार महंगाई ने बहनों को परेशान कर दिया है। पिछले साल की तुलना में 20 प्रतिशत तक राखियों के दाम बढ़ गए है। सामान्य राखी 30 रुपये और फैंसी राखी 80 से 250 रुपये के बीच मिल रही है। अपने भाइयों के लिए राखियां लेने पहुंच रही युवतियांऔर महिलाएं महंगाई की वजह से अपने खरीददारी में थोड़ा बजट का ख्याल रख रही है। इस बार महादेव कट और ब्लेसलेट राखी की डिमांड बनी हुई है। वहीं बच्चों के लिए तरह-तरह की रंग-बिरंगी राखियां मिल रही है।

शहर के गंजीपुरा, फुहारा, और लार्डगंज क्षेत्र में राखी विक्रय का मुख्य बाजार है। जहां इन दिनों फुटपाथ पर ढेरों दुकानें रंग-बिरंगी राखियों से सजी है। लार्डगंज में दुकान लगाने वाले राहुल जैन ने बताया कि बाजार में राखियों की वैरायटी भरपूर है, लेकिन सावन में महादेव कट के लिए बहनों में पसंद अधिक है। इसके अलावा ब्लेसलेट राखी की भी लड़कियों में मांग है। इसके अलावा बच्चों के लिए चकरी राखी के अलावा ढेरों विकल्प है। बच्चों के लिए 40 रुपये से 250 रुपये के बीच राखी बिक रही है।

रूमाल भी हुआ महंगा-

दुकानदार अंकित जैन ने कहा कि पिछले साल 10 रुपये से 20 रुपये में रुमाल बिक रहे थे, लेकिन इस बार जीएसटी लगने के कारण दाम बढ़ गए है। 350 रुपये दर्जन में रूमाल की ब्रिकी कर रहे हैं। महंगाई बढ़ने की वजह से बाजार में पहले की तरह ग्राहकी नहीं है। लोग खरीददारी करने तो आ रहे हैं, लेकिन बाजार में महंगाई देखकर उनका बजट कम हो रहा है। इसी तरह चूड़ी और सजने सवरने की चींजों को लेकर भी महिलाएं खरीदारी करने खूब आ रही है। साड़ी,सूट से लेकर तरह-तरह के फैशन से जुड़े परिधान लेने के लिए उत्साह बना हुआ है।

बच्चों की राखी में इस साल डोरमेन, स्पाइडरमैन के अलावा छोटा भीम, गणेश और खिलौनानुमा राखियों की वैरायटी खूब नजर आ रही है। दुकानदारों ने कहा कि बच्चों के लिए लोग खिलौने वाली राखी पंसद कर रहे हैं। वहीं महिलाओं के लिए राखी का चलन है। इसलिए महिलाओं में चूड़ा राखी प्रचलन में है। इसकी कीमत भी 50 से 150 रुपये के बीच है। महंगी राखियों में 300 रुपये कीमत की चूड़ा राखी है।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close