जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पाटन विधानसभा क्षेत्र के विधायक अजय विश्नोई ने ग्रामीण इलाकों में बिजली की अघोषित कटौती को लेकर सरकार को आगाह किया है। इंटरनेट मीडिया में विश्नोई ने संदेश प्रसारित किया है जिसमें कहा है कि किसानों की फसल निपटी तो वे हमें निपटा देगा, यह कहकर मंत्री ने अपने क्षेत्र को बिजली कटौती से बचा लिया। अब बाकी विधायक भी क्या इंटरनेेट मीडिया की शरण ले अथवा निपटने की तैयारी करें। उनके इस बयान पर जमकर प्रतिक्रिया आ रही है। इधर कांग्रेस भी इस मुद्दें को भुनाने का प्रयास कर रही है।

दरअसल पिछले कुछ दिनों से लगातार बिजली की बढ़ी हुई मांग को बिजली कंपनी पूरा नहीं कर पा रही है। ऐसे में ग्रामीण इलाकों में अघोषित बिजली की कटौती करनी पड़ रही है। किसानों ने खेतों में मूंग और उड़द की फसल बोई है जिसके लिए पानी की जरूरत है। बिजली नहीं मिलने की वजह से फसल सूख रही है। ऐसे में किसान बेहद खफा है। कई इलाकों में बिजली की मांग को लेकर प्रदर्शन और ज्ञापन भी हुए। इसके बावजूद ग्रामीण इलाकों में पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है।

इस मामले में अजय विश्नोई ने कहा कि उन्होंने विगत 14 अप्रैल को मुख्यमंत्री के नाम चिट्टी लिखकर अघोषित बिजली कटौती से होने वाली परेशानी को लेकर चिंता जताई थी। उस पर जब असर नहीं दिखा तो इंटरनेट मीडिया में अपनी बात कहनी पड़ी। उन्होंने कहा कि कृषि मंत्री कमल पटेल का वीडियो वायरल हुआ जिसमें किसानों को बिजली नहीं मिलने पर निपटाने की बात कही थी। इस वीडियो के आने के बाद उनके क्षेत्र में समस्या का समाधान हो गया लेकिन बाकी विधायक क्या करें? उनके लिए इस समस्या की वजह से मुश्किल होना तय है। ज्ञात हो कि विधायक अजय विश्नोई अपने बयानों को लेकर आए दिन सुर्खियों में रहते हैं। उन्होंने कई बार अलग-अलग मुद्दों को इंटरनेट मीडिया में उठाकर अपनी ही सरकार के काम पर सवाल उठाए है। इस बार बिजली कटौती का मुद्दा सरकार को परेशान कर सकता है। क्योंकि लगातार बिजली की मांग में जिस तरह इजाफा हुआ है उससे बढ़ी हुई बिजली की मांग की आपूर्ति करना संभव नहीं हो पा रहा है। बिजली कंपनियों के पास पर्याप्त कोयला भी उपलब्ध नहीं हो रहा है जिस वजह से कोयले से चलने वाली बिजली की इकाईयों को पूरी क्षमता से नहीं चलाया जा रहा है।

Posted By: Shivpratap Singh

NaiDunia Local
NaiDunia Local