High Court Jabalpur : जबलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि) । हाई कोर्ट व जिला अदालत में पैरवी करने वाले अधिवक्ता अनुराग साहू द्वारा आत्महत्या किए जाने के बाद एक अक्टूबर, 2022 को आक्रोशित वकीलों ने हाई कोर्ट परिसर में हंगामा मचा दिया था। वकील शव लेकर न केवल हाई कोर्ट परिसर में घुस आए थे बल्कि घंटों नारेबाजी करते रहे। इस दौरान अप्रिय स्थिति से निपटने काफी संख्या में पुलिस बल बुला लिया गया था। जिसने हल्का बल प्रयोग कर आंदोलित वकीलों को हाई कोर्ट भवन से नीचे उतरा था।

हाई कोर्ट प्रशासन की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज कर लिए थे। प्रारंभिक जांच-पड़ताल के बाद पहले चरण में दो अधिवक्ताओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। 20 जनवरी को पुलिस ने उनके विरुद्ध आरोप पत्र न्यायालय में पेश किया। जिसमें 19 और अधिवक्ताओं के नाम दर्ज हैं। इस बारे में जानकारी लगते ही सोमवार को जिला बार एसोसिएशन, जबलपुर का एक प्रतिनिधि मंडल पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा से मिलने पहुंच गया। साथ ही दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई का आरोप लगाया।

दबाव के बिना निष्पक्ष जांच की जाए :

जिला बार अध्यक्ष आरके सिंह सैनी, सचिव राजेश तिवारी, उपाध्यक्ष अखिलेश चौबे, महिला उपाध्यक्ष ज्योति राय, संयुक्त सचिव यतेंद्र अवस्थी, कोषाध्यक्ष अजय दुबे, पुस्तकालय सचिव अमित कुमार साहू, कार्यकारिणी सदस्य दमोदर पाटकर, अर्जुन साहू, प्रदीप परसाई बाबा, आशीष पांडे, रेणुका शुक्ला व राजू बर्मन ने मांग की कि इस प्रकरण में बिना किसी दबाव के निष्पक्ष व पारदर्शी जांच की जाए। इस पर पुलिस अधीक्षक बहुगुणा ने भरोसा दिलाया कि हम मिलकर एक बार फिर से सीसीटीवी फुटेज देखेंगे यदि उसमें 19 जोड़े गए नामों वाले वकील अवैधानिक कृत्य करते नजर नहीं आएंगे तो उनके नाम विलोपित कर दिए जाएंगे।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close