जबलपुर(नईदुनिया रिपोर्टर)। जगद्गुरु शंकराचार्य के दर्शन पर केंद्रित राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी का आयोजन 27 व 28 जनवरी को श्री जानकीरमण कॉलेज परिसर में किया जा रहा है। शोध संगोष्ठी का विषय-'शंकर वेदांत में पंचदशी का स्थान और स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती की दार्शनिक दृष्टि' है। शोध संगोष्ठी की शुरुआत सोमवार 27 जनवरी को अपरान्ह 3 बजे से होगा। इसके प्रधान अतिथि व बीज वक्ता परम-पूज्य द्विपीठाधीश्वर जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज रहेंगे। उद्घाटन समारोह में ब्रह्मचारी सुबुद्घानंद, केबिनेट मंत्री अध्यक्ष मठ मंदिर, सलाहकार समिति मप्र विधानसभा अध्यक्ष, नर्मदा प्रसाद प्रजापति, उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी, वित्त मंत्री तरुण भनोत, ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह, सामाजिक न्याय मंत्री लखन घनघोरिया, कुलपति, प्रो.कपिल देव मिश्र, भारतीय दार्शनिक अनुसंधान परिषद के सदस्य सचिव प्रो. कुमार रत्नम, समाज सेवी बाबू विश्वमोहन दास, कुलसचिव डॉ. कमलेश मिश्र, प्रो. रामराजेश मिश्र, प्रो. भरत कुमार तिवारी, समाजसेवी, शरदचंद पालन उपस्थित रहेंगे। संगोष्ठी चार तकनीकी सत्र में आयोजित होगी। जिसमें देश विदेश से लगभग 50 विद्वान उपस्थित रहेंगे।

समापन सत्र 28 जनवरी को अपरान्ह 3ः30 से शुरू होगा। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में ब्रह्मचारी सुबुद्घानंद महाराज, मुख्य वक्ता प्रो. जटाशंकर अध्यक्ष अखिल भारतीय दर्शन परिषद, प्रयागराज व सम्मानीय अतिथि के रूप में विधायक विनय सक्सेना, विधायक शहपुरा विधानसभा भूपेंद्र मरावी, कुलपति रादुविवि प्रो.कपिल देव मिश्र, निदेशक मप्र हिंदी ग्रंथ अकादमी रामराजेश मिश्र, सेवानिवृत आचार्य प्रो. रहस बिहारी द्विवेदी, उपकुलसचिव डॉ.दीपेश मिश्रा, अध्यक्ष शासी निकाय शरदचंद पालन, दर्शनशास्त्री डॉ. मनमोहन अग्रवाल उपस्थित रहेंगे।

Posted By: Nai Dunia News Network