जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

ट्रेन में यात्रियों की भीड़ का फायदा उठाकर चोरी करने वाला ऐसा गिरोह जीआरपी के हत्थे चढ़ा है, जो दूसरों के लिए तो इत्र बेचने वाले व्यापारी थे, लेकिन रात होते ही ट्रेन के जनरल कोच में सफर कर चोरियों को अंजाम देते थे। खास बात यह है कि मुरादाबाद के रहने वाले तीन चोर, शहर में सिर्फ ट्रेन में चोरियां करने के लिए आते थे। यहां पर किराए से मकान लेकर रहते ताकि उनकी हरकतों पर किसी का शक न हो।

दरअसल हाल ही में जबलपुर से निकलने वाली कई ट्रेनों में चोरी की घटनाएं बढ़ीं । जीआरपी ने जब इन मामलों की विस्तार से जांच की तो पता चला कि इन चोरियों को अंजाम देने वाला कोई नया व्यक्ति नहीं बल्कि चोरी में माहिर है। इसके बाद स्टेशन पर हर आने-जाने वालों पर नजर रखी जा रही थी।

जनरल कोच के यात्रियों को नाते थे शिकारः

जीआरपी टीआई मनजीत सिंह ने बताया कि हमने तीन चोरों को जबलपुर के आउटर पर ब्रिज नंबर 2 के पास से पकड़ा। इनसे पूछताछ की तो पता चला कि यह सिर्फ चोरी करने के लिए जबलपुर आए थे। इन्होंने मुम्बई-हावड़ा से लेकर कई ट्रेनों में तकरीबन कई चोरियों को अंजाम दिया है। इसमें ग्रुप में एक सदस्य कम हाइट का है, जिससे वह जनरल कोच की सीट के नीचे आसानी से बैठ जाता था और फिर बैग से आसानी से कीमती सामान पार कर देता। इतना ही नहीं इससे पहले यह कटनी में भी कई चोरियां कर चुका है, जिसके लिए इसे जेल भी हुई थे।

मुखिया की तलाश हो रही

इनमें उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के ग्राम गनीमत निवासी मुमत्याज शेख, गोपालपुर निवासी निजामुद्दीन घोघर, ग्राम खैयाखद्दर निवासी इकराम शेख हैं। इन तीन के अलावा गिरोह का एक मुखिया भी है, जो इस गिरोह को चलाता था। वह मौके से फरार हो गया है, जिसकी तलाश जारी है। इन्होंने अब तक लाखों के सोने-चांदी के ज्वेलर्स, नकदी और मोबाइल बरामद किए हैं।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket