जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सालाना पाई—पाई का हिसाब लेने वाली रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में 10 साल से अपने अध्यापक और कर्मियों को दी रकम का हिसाब भूल गई। खजाने से सिर्फ पैसा निकलता गया लेकिन वापस जमा हुआ कि नहीं इसकी किसी ने सुध नहीं ली। इस अनदेखी का नतीजा ये हुआ कि लाखों की रकम करोड़ों रुपये तक पहुंच गई। अब आॅडिट के ऐतराज पर वित्त विभाग ने वसूली के लिए सख्ती शुरू की है। इतना ही नहीं एडवांस की राशि फिलहाल नहीं देने का ​भी निर्णय लिया है।

रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में हर ​सरकारी महकमे की तरह ही जरूरी कार्य के लिए अग्रिम राशि आवंटित की जाती है। गोपनीय कार्य के लिए, किसी सेमिनार, दीक्षा समारोह अथवा अन्य गतिविधि के लिए। इस राशि का उपयोग के पश्चात हिसाब देकर समायोजन करवाना होता है। इसमें अग्रिम राशि लेने वाले कर्मी को खर्च का सारा हिसाब बनाकर वित्त विभाग को जमा करना होता है ताकि उस अग्रिम से शेष बची राशि वापस जमा की जा सके। यूनिवर्सिटी में ऐसा नहीं हुआ। अध्यापकों और कर्मचारियों ने अग्रिम राशि ली तो जरूर लेकिन उसका समायोजन करना भूल गए। एक दो साल नहीं आॅडिट विभाग ने 5—10 लाख पुराना अग्रिम शेष पाया है। ऐसे में करीब 4.50 करोड़ रुपये के आसपास अग्रिम होना मिला है। ऐसे में यूनिवर्सिटी प्रशासन ने आगे से किसी भी तरह का अग्रिम भुगतान करने पर रोक के आदेश जारी किए है। वित्त विभाग ने कहा कि इस स्थिति में अग्रिम राशि देकर यूनिवर्सिटी वित्तीय नुकसान उठा रही है।

परीक्षा में सबसे ज्यादा जरूरत: गोपनीय कार्य के दौरान कापियों का मूल्यांकन कार्य के लिए अग्रिम राशि लेनी होती है। शिक्षकों तक कापियों को पहुंचाने तथा नगद मूल्यांकन के लिए मूल्यांकन प्रभारी अग्रिम राशि वित्त विभाग से स्वीकृत करवाते हैं बाद में इसका समायोजन करवाया जाता है। यदि अग्रिम राशि का भुगतान नहीं हुआ तो मूल्यांकन कार्य प्रभावित होगा।

वर्जन..

आॅडिट की अपत्ति के पश्चात वित्त विभाग ने किसी भी तरह का अग्रिम भुगतान प्रतिबंधित किया है। कई सालों से अग्रिम लिया गया है लेकिन उसका समायोजन नहीं हुआ है। ऐसा करीब 4.50 करोड़ रुपये बकाया हो चुका है।

रोहित कौशल, वित्त नियंत्रक रादुविवि

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस