जबलुपर, नईदुनिया प्रतिनिधि। गोराबाजार थाना क्षेत्रातंर्गत तिलहरी टीसी कालोनी निवासी रजत रघुवंशी को आनलाइन आइडीएफसी बैंक में आधा अधूरा एकाउंट के लिये अप्लाई करना भारी साबित हुआ। किसी जालसाज ने एकाउंट के लिये सबमिट किये गये दस्तावेजों से केवाईसी तैयार कर उक्त नाम पर खोले गये एकाउंट से एक लाख रुपये का ट्रांजेक्शन कर लिया, जिसकी शिकायत हापुड़ उप्र पुलिस तक पहुंची और उन्होंने जबलपुर पुलिस से संपर्क किया। जब पुलिस ने पीड़ित से संपर्क कर जानकारी दी, तो पीड़ित के पैरों तले जमीन खिसक गई और उसने पूरे मामले की जानकारी संबंधित पुलिस को दी और अब न्याय पाने व अपने को सही साबित करने यहां वहां परेशान होकर भटक रहा है। पीड़ित ने पुलिस से न्याय की गुहार लगाई है।

पीड़ित रजत रघुवंशी पिता रविशंकर रघुवंशी जो एक निजी एजेंसी में कार्यरत है। उसने मई 2021 में आईडीएफसी फर्स्ट बैंक का आनलाइन एकाउंट खोलना चाहा, जिसके लिये उसने कुछ दस्तावेज भी सबमिट कर दिये, लेकिन तकनीकी खामियों के चलते उसने अप्लाई अधूरा ही छोड़ दिया। जिसका किसी जालसाज ने फायदा उठाया और रजत के सबमिट दस्तावेजों का दुरुपयोग करते हुए केवाईसी कर एकाउंट ओपन कर उसमें चार मर्तबा में 25-25 हजार का ट्रांजक्शन कर करीब एक लाख रुपये निकाले। जबकि पूरा लेन-देन जयपुर राजस्थान से किया गया है, इतना ही नहीं हापुड़ पुलिस ने जो जानकारी आवेदक को दिखाई उसमें उसका नाम तो दिख रहा है, लेकिन मोबाइल नंबर व माता का नाम व अन्य जानकारियां गलत शो कर रही है। अब पीड़ित व उसका परिवार परेशान है कि किसने उनके नाम का फर्जी एकाउंट कर रुपय का लेन-देन किया है। पीड़ित ने इस संबंध में गोरा बाजार पुलिस को भी अपना आवेदन दिया है, ताकि सच का पता चल सके और जालसाजों पर कार्रवाई हो सके।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close