जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। स्कूल शिक्षा विभाग में शिक्षकों के स्वैच्छिक स्थानांतरण के बाद ग्रामीण शालाओं में शिक्षकों की कमी हो गई है। शहरी स्कूलों में जहां पद से अधिक शिक्षक पदस्थ हो गए है वहीं ग्रामीण शालाओं में कक्षाएं अतिथि शिक्षकों के भरोसे चलानी पड़ रही है। विभाग को स्थानांतरण प्रक्रिया के पहले युक्तियुक्तकरण करना था, किन्तु विगत चार से पांच वर्षों में शिक्षा विभाग द्वारा छात्र संख्या, विषयामान से युक्तियुक्तकरण नहीं किया जा रहा है, जिससे शहरी क्षेत्र की प्राथमिक शालाओं छात्र संख्या के मान से अधिक शिक्षक कार्यरत हैं। वहीं माध्यमिक, हाईस्कूल एवं हायर सेकेण्डरी स्कूलों में एक विषय के एक से अधिक शिक्षक कार्यरत हैं।

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा आनलाइन स्वैच्छिक स्थानांतरण के पूर्व शिक्षकों के युक्तकरण कर लिया गया होता तो ग्रामीण क्षेत्र की जो शालाएं अतिथि शिक्षकों के भरोसे चल रही वहां नियमित शिक्षक कार्यरत होते। शहरी क्षेत्र की शालाओं शिक्षकों के थोक के भाव हुए स्थानांतरण से परिणाम यह है कि जबलपुर विकासखंड में माध्यमिक शिक्षक, उच्च माध्यमिक शिक्षकों स्वीकृत पदों से अधिक शिक्षक कार्यरत हैं जिन्हें व्यवस्था अंतर्गत आइएफएमआइएस पोर्टल पर पर उच्च श्रेणी शिक्षक, व्याख्याता के पद विरूद्ध कार्यभार ग्रहण कराकर वेतन आहरित किया जा रहा है।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close