जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जाति प्रमाण-पत्र के वितरण के दौरान छात्र-छात्राओं के साथ अभद्र व्यवहार करने के आरोप में शासकीय कन्या हाईस्कूल व्हीकल के एक भृत्य को निलंबित कर दिया गया है। यह कार्रवाई जिला शिक्षा विभाग की ओर से की गई।

जिला शिक्षा अधिकारी घनश्याम सोनी ने बताया कि भृत्य गोपाल बर्मन छह अगस्त को व्हीकल स्थित शासकीय कन्या हाईस्कूल में शराब पीकर विद्यालय पहुंचा था। उस समय विद्यालय में जाति प्रमाण-पत्र वितरित किए जा रहे थे। इस दौरान नशे में चूर भृत्य गोपाल बर्मन द्वारा वहां मौजूद छात्र-छात्राओं को डंडा दिखाकर डराने का प्रयास किया गया और उन्हें अपशब्द भी कहे गए। भृत्य के इस अभद्र व्यवहार पर उसे प्राचार्य कक्ष में बुलाया गया, जहां उसने नशा करना स्वीकार किया। जब उसे प्राचार्य ने फटकार लगाई तो वह आत्महत्या कर सभी को फंसा देने की बात कहते हुए प्राचार्य को ही धमकाने लगा। इस घटना की सूचना स्कूल के प्राचार्य ने जिला शिक्षा अधिकारी को दी। इस पर जिला शिक्षा अधिकारी ने गोपाल बर्मन के इस कृत्य को पदीय दायित्वों के विपरीत एवं गंभीर अनुशासनहीनता मानते हुए उसे मध्यप्रदेश में सिविल सेवा (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के अंतर्गत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। निलंबन अवधि में उसका मुख्यालय विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय जबलपुर नियत किया गया है।

कोर्ट में चालान पेश, शिक्षक निलंबित

दहेज प्रतिषेध अधिनियम के तहत दर्ज प्रकरण में पुलिस द्वारा न्यायालय में चालान प्रस्तुत किए जाने पर जिला शिक्षा अधिकारी घनश्याम सोनी ने विकासखंड पनागर की शासकीय प्राथमिक शाला हाथीडोल के प्राथमिक शिक्षक मोहम्मद जामिन खान को निलंबित कर दिया है। शासकीय कर्मचारी रहते मोहम्मद जामिन खान के विरुद्ध मंडला जिले की पुलिस चौकी पिंडरई थाना नैनपुर में दहेज प्रतिषेध अधिनियम के अंतर्गत अपराध पंजीबद्ध हुआ था। प्रकरण में प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट न्यायालय नैनपुर मंडला में छह जून को चालान प्रस्तुत किया गया। जिला शिक्षा अधिकारी के अनुसार निलंबित प्राथमिक शिक्षक को निलंबन काल के दौरान विकासखंड शिक्षा अधिकारी पनागर कार्यालय से संलग्न किया गया है।

Posted By: tarunendra chauhan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close