Jabalpur News : जबलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अपनी मांगाें को लेकर पिछले कुछ सालों से अपनी आवाज बुलंद कर रहे रेडियोग्राफर ने एक बार फिर 11 सूत्रीय मांगों को पूरा करने की मांग की है। प्रगतिशील रेडियोग्राफर संघ मप्र ने रेडियोग्राफर डार्करूम असिस्टेंट और एक्सरे विभाग में कार्यरत कर्मचारियों की मांगों के संबंध में सीएमओ संजय मिश्रा और विक्टोरिया के सिविल सर्जन राजकुमार चौधरी को ज्ञापन सौंपा।

संघ के अध्यक्ष नितेश तिवारी ने बताया कि पदाधिकारियों ने बताया कि प्रगतिशील रेडियोग्राफर संघ अपनी मांगों पर प्रदेश सरकार और प्रशासन का ध्यान आकर्षण कराना चाहता है। देश में मध्यप्रदेश ही एक ऐसा एकलौता राज्य है, जहां पिछले 28 वर्षों से प्रदेश के रेडियोग्राफर को मात्र 50 रुपये विकरण भत्ता दिया जा रहा, जबकि स्वास्थ्य विभाग में रेडियोलोजी विभाग में कार्यरत रेडियोग्राफर्स, डार्क रूम असिस्टेंट संवर्ग ही एकमात्र ऐसा संवर्ग है, जो दोहरे जोखिम को उठाकर कोरोना संक्रमित व संदिग्ध मरीजों की सेवा कर रहा है।

संघ ने प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के आयुक्त के नाम ज्ञापन सौंपते हुए बताया कि कोरोना से जंग में बखूबी भागीदारी निभाने के बाद भी आज तक हमारी मांगों को पूरा नहीं किया गया। प्रदेश सरकार से इस संबंध में चर्चा भी हुई, लेकिन अब तक मांग अधूरी ही हैं। संघ ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि वो रेडिएशन भत्ते में संशोधन करें। इसे बढ़ाकर उनकी बेसिक पे का 25% किया जाए। इसके अलावा ग्रेड पे राज्यों की भांति 2800 से बढ़ाकर 4200 किया जाए। पदनाम रेडियोग्राफर के स्थान पर रेडियोलॉजी ऑफिसर और डार्करूम असिस्टेंट का पदनाम सहायक रेडियोलॉजी ऑफिसर किया जाए। ज्ञापन सौंपने के दौरा रोहित मिश्रा, अभिषेक दुबे, सतीश शर्मा, जीवेश राज सोनी, अजय सिंह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close