जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। भारतीय रेलवे ने गैर किराया राजस्व में वृद्धि के लिए नए विचारों को बढ़ावा दिया है। यह नई गैर किराया राजस्व विचार योजना की शुरूआत मई 2018 में की गई। इससे जबलपुर मंडल पांच सालों में लाखों रुपये की अतिरिक्‍त आय प्राप्त होगी। पश्चिम मध्य रेल ने नई गैर किराया राजस्व विचार योजना को कार्यान्वित कर गैर किराया राजस्व के तहत अतिरिक्त आय अर्जित करने अहम भूमिका निभा रहा है। जबलपुर मंडल के वाणिज्य विभाग द्वारा चार स्टेशनों के लिए गैर किराया राजस्व के तहत अतिरिक्त राजस्व प्राप्त करने के लिए तैयारियां पूर्ण कर ली है। जिसमें जबलपुर मंडल ने आरओएमटी नीति के तहत रेलवे स्टेशनों के प्रतीक्षालय के नवीनीकरण संचालन एवं रखरखाव अनुबंध किया जाएगा।

इन कार्यों से बढ़ेगी आय : जबलपुर रेलवे स्टेशन के प्रतीक्षालय के नवीनीकरण एवं रखरखाव के लिए आरओएमटी नीति के तहत 5 सालों में एनआरएफ से लगभग 90.05 लाख रुपये का अतिरिक्त राजस्व प्राप्‍त करेगा। सतना रेलवे स्टेशन के प्रतीक्षालय के नवीनीकरण एवं रखरखाव के लिए आरओएमटी नीति के तहत 5 सालों में एनआरएफ से लगभग 57.50 लाख रुपये की अतिरिक्त राजस्व होगा। मैहर रेलवे स्टेशन के प्रतीक्षालय के नवीनीकरण एवं रखरखाव के लिए आरओएमटी नीति के तहत 5 सालों में एनआरएफ से लगभग 15.05 रुपये लाख का अतिरिक्त राजस्व होगी। रीवा रेलवे स्टेशन के प्रतीक्षालय के नवीनीकरण एवं रखरखाव के लिए आरओएमटी नीति के तहत पांच सालों में एनआरएफ से लगभग 6.05 लाख रुपये का अतिरिक्त राजस्व प्राप्‍त होगा। इस प्रकार पश्चिम मध्य रेल के जबलपुर मंडल ने पांच सालों में एनआरएफ के तहत लगभग 169 लाख रुपये का अतिरिक्त राजस्व होगा। इससे अलावा रेलवे को हर साल सिविल कार्य रखरखाव एवं इलेक्ट्रिक की काफी बचत होगी।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local