जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पश्चिम मध्य रेलवे के लिए स्क्रेप के निपटारे का लक्ष्य पूरा करने में हमेशा ही आगे रहा है। पमरे ने पिछले साल 2020-21 में भी कोविड महामारी के बाद भी लक्ष्य से अधिक स्क्रेप का निपटारा कर करोड़ों का राजस्व आय प्राप्त की थी। इसी तरह पमरे ने सन 2020-21 में 188 करोड़ रुपये का स्क्रेप निपटारा कर राजस्व में वृद्धि की थी। इस वर्ष भी कोविड महामारी की दूसरी लहर की विषम परिस्थितियों के बावजूद भी 2021-22 में पिछले पांच महीनों में 100 करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है। स्क्रेप निपटान में पमरे ने 12361 मीट्रिक टन स्क्रेप रेल मटेरियल 10348 मीट्रिक टन स्क्रेप फेरस 471 मीट्रिक टन स्क्रेप नान फेरस 87 स्क्रेप वैगन 17 स्क्रैप कोच, 4 स्क्रेप लोको और 3386 मीट्रिक टन अन्य स्क्रेप का निपटान करके कुल रुपये 101.53 करोड़ का राजस्व में वृद्धि की गई।

खाली जगह का उपयोग किया जाएगा : रेलवे में स्क्रेप निपटारा होने से खाली जगहों का भी उपयोग किया जाएगा।

रेलवे में स्क्रेप निपटारा से राजस्व में वृद्धि होती है। साथ ही अन्य स्त्रोत की आय में भी बढ़ोत्तरी हुई। स्क्रेप निपटान से खाली हुई जगह को अन्य रेलवे द्वारा गतिविधियों के लिए उपयोग में लाई जा सके। इस निपटान से रेल खंड भी साफ-सुथरा रहता है जो यात्रियों को सुगम एवं अच्छा यात्रा का अनुभव कराता है। इसके साथ ही स्क्रेप मटेरियल में कमी होती है। पश्चिम मध्य रेलवे महाप्रबंधक शैलेंद्र कुमार सिंह के लगातार प्रोत्साहन और कुशल मार्गदर्शन एवं समस्त विभागाध्यक्षों विशेष तौर पर प्रमुख मुख्य सामग्री प्रबंधक एवं जबलपुर, भोपाल और कोटा मंडल के मंडल रेल प्रबंधक भोपाल एवं कोटा कारखाना के मुख्य कारखाना प्रबंधकों मुख्य सामग्री प्रबंधक बिक्री मुख्य रेल पथ अभियंता मुख्य चलशक्ति अभियंता मुख्य विद्युत लोको अभियंता तथा वित्तीय सलाहकार एवं मुख्य लेखाधिकारी के टीम द्वारा कार्य किया गया है। इस स्क्रेप निपटान में रेलवे समस्त विभागों विशेषकर इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इलेक्ट्रिकल, एसएनटी लेखा एवं स्टोर के अधिकारियों एवं कर्मचारियों का अथक परिश्रम शामिल है।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local