जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि Oxygen supply in jabalpur । इन दिनों कोरोना संक्रमण की चपेट में आए लोगों के लिए आक्सीजन जीवनदान बन रही है। ऐसे में रेलवे द्वारा भी लोगों को आक्सीजन देने के लिए आक्सीजन एक्सप्रेस चलाई जा रही है। रेलवे ने जबलपुर, सागर और भोपाल समेत कई शहरों में आक्सीजन एक्सप्रेस चलाकर आक्सीजन पहुंचाई है।

115 आक्सीजन एक्सप्रेस दौड़ाई: रेलवे द्वारा आक्सीजन टैंकरों को ट्रक के माध्यम से जल्द से जल्द उनके गंतव्य स्टेशन तक पहुंचाया जा रहा है। इस सुविधा के अंतर्गत देश भर के राज्यों को जहां आक्सीजन टैंक सीधे आक्सीजन आपूर्तिकर्ता फैक्ट्री से शीघ्रता शीघ्र अपने गंतव्य को पहुंच रहे हैं। इस अभियान में के अंतर्गत अब तक 115 आक्सीजन एक्सप्रेस से देश के विभिन्न राज्यों में 444 टैंकरों में लगभग 7115 मीट्रिक टन चिकित्सा उपयोगी हेतु मेडिकल आक्सीजन की आपूर्ति कर चुका है।

चार टैंकर लेकर पहुंची आक्सीजन एक्सप्रेस: मध्य प्रदेश के लिए 11वीं आक्सीजन एक्सप्रेस को चिकित्सा आक्सीजन (LMO) से भरे 04 टैंकरों के साथ दोपहर 12:30 बजे बोकारो से रवाना हुई और सागर (मकरोनिया) पहुंची। इस एक्सप्रेस के 04 टैंकरों में 46.96 मीट्रिक टन तरल चिकित्सा ऑक्सीजन(LMO) भरी है। 04 टैंकर मकरोनिया (सागर) में अनलोड किये गए। यह एक्सप्रेस बोकारो से कोटशिला, झारसुगुड़ा, बिलासपुर, नई कटनी जंक्शन होते हुए सागर के मकरोनिया पहुंची। जिसमें बोकारो से सागर तक के लिए 1100 किमी की दूरी तय की।

यह कदम उठाए:

- लिक्विड ऑक्सीजन टैंक- ट्रकों को परिवहन करने के लिए विशेष वैगनों को चुना है।

- प्रस्थान एवं गंतव्य स्टेशनों पर आक्सीजन टैंक युक्त ट्रकों के उतरान हेतु विशेष रेम्पो को बनाया है।

- आक्सीजन के परिवहन हेतु रेलवे द्वारा ऐसे रूटों को चुना गया है ताकि वैगनों का शीघ्र एवं सुरक्षित परिवहन किया जा सके।

- रेलवे वैगनों को रोड टैंकर लोडिंग पॉइंट के नजदीक प्लेस किया जा रहा है।

- क्योंकि आक्सीजन लिक्विड एक विशेष प्रकार का पदार्थ है अतः इसके परिवहन के दौरान विशेष सावधानी रखी जा रही है।

Posted By: Sunil Dahiya

NaiDunia Local
NaiDunia Local