Rani Durgavati University Jabalpur: जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि। रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में प्रवेश के लिए इस बार भारी मारामारी दिखी। कई सालों बाद परंपरागत विषयों में भी सीटे फुल हुई हैं। अभी तक 2500 से ज्यादा विद्यार्थी प्रवेश ले चुके हैं।

अधिकांश विभागों में सीटें फुल हो चुकी हैं। इसके बावजूद विद्यार्थी अतिरिक्त सीट बढ़ाकर प्रवेश देने की मांग कर रहे हैं। खासबात ये है कि यूनिवर्सिटी कैंपस में परंपरागत विषयों में ही सबसे ज्यादा विद्यार्थियों का रुझान नजर आया। जो आधुनिक पाठ्यक्रम हैं उनमें अपेक्षाकृत कम संख्या में प्रवेश हुआ है।

ज्ञात हो कि रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी में 15 जून से प्रवेश की प्रक्रिया प्रारंभ हो गई थी। शुरुआत में ही योग और बीएलएलबी पाठ्यक्रम के लिए ज्यादा आवेदन पहुंचे। इसके पश्चात अन्य सामान्य विषयों में भी विद्यार्थियों ने प्रवेश लेना शुरू किया।

इन विषयों में कम रुझान

पीजी डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक्स, पीजी डिप्लोमा इन ट्राइबल स्टडीज, पीजी डिप्लोमा इन साइबर सिक्योरिटी, पीजी डिप्लोमा इन जेंडर स्टडीज एवं पीजीडीसीए में बेहद कम विद्यार्थी आए। बीए, बीसीए, बीबीए, बीएससी माइक्रोबॉयोलॉजी, एमएससी बायोसाइंस, एमएससी स्टेटिक्स, एमएससी इलेक्ट्रॉनिक्स की सीटें खाली रह गईं। वहीं एआइएचसी, एमएएमसी, हिंदी, रूरल डेवलपमेंट, शिक्षा, फिलॉसफी, एमएसडब्ल्यू और भूगोल में भी कई सीटें खाली रह गईं।

इनकी सीटें फुल

बीपीईएस (बैचलर इन फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स), बीएएलएलबी, एलएलएम, योग, बीजेसी, बीएड, बीफॉर्मा, एमएससी कैमेस्ट्री, एमएससी फिजिक्स, माइक्रोबायोलॉजी, मैथ्स बायोटेक्नोलॉजी, एमए राजनीतिशास्त्र, अंग्रेजी, इतिहास एवं संस्कृत।

गुणवत्तायुक्त शिक्षा

विद्यार्थियों के बढ़ते रुझान को देखकर प्रशासन का दावा है कि गुणवत्तायुक्त शिक्षा देने की वजह से प्रवेश की सख्या बढ़ी है। वहीं विभागों में शिक्षकों की कमी को लेकर प्रशासन ने वैकल्पिक इंतजाम करने की बात कही है। कुलसचिव दीपेश मिश्रा ने कहा कि शिक्षण कार्य स्थाई नियुक्ति होने तक बाधित न हो इसके लिए योग्य अतिथि विद्वानों को नियुक्त किया गया है।

सीबीसीएस प्रणाली

रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी ने शिक्षण विभागों में सामान्य सेमेस्टर के बजाय च्वाइस बेस के्रडिट सिस्टम (सीबीसीएस) प्रणाली लागू की हुई है। इस वजह से भी विद्यार्थी प्रवेश में अधिक रुझान दिखा रहे हैं। कुलपति प्रो.कपिल देव मिश्र ने कहा कि इस प्रणाली के जरिए विद्यार्थी सामान्य कोर्स में अन्य पसंद के रोजगारोन्मुखी कोर्स का चयन कर सकते हैं। उनके अनुसार सभी विभागों को मिलाकर 2556 विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020