जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। साहित्य संगम संस्थान ने आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत यह उत्सव आनलाइन मनाया। सात दिनों तक चले उत्सव में में हर दिन करीब 60 से 70 कवियों ने शाम चार बजे से रात 10 बजे तक आनालइन काव्य पाठ किया और अपनी रचनाओं की प्रस्तुति दी। इसका सीधा प्रसारण तकनीकी सहायक संगीता मिश्रा के पुत्र मास्टर चंद्रमौली मिश्र के माध्यम से फेसबुक पर किया गया। देश- विदेश से हर उम्र के कवियों- कवयित्रयों ने अपनी उपस्थिति दी। डा. अंजना संधीर, आबिद काजमी, अशोक नूर, मणिकांत चौबे, हास्य व्यंग्यकार प्रशांत करण, रामावतार निश्छल बिजरंजका व अन्य सदस्य उपस्थित रहे।

संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजवीर सिंह मंत्र ने इस कार्यक्रम को वर्तमान समय की जरूरत बताया। उन्होंने कहा कि रचनाकारों को इस बात से खुश होना चाहिए कि आजादी के अमृत महोत्सव के आयोजन में उन्हें भी सहभागिता करने का अवसर मिला। कार्यकारी अध्यक्ष डॉ.कुमार रोहित और संगीता मिश्रा ने सुनियोजित ढंग से कार्यक्रम का आयोजन किया। आनलाइन कार्यक्रम के दौरान प्रतिभागियों, संचालकों, अध्यक्षों, वरिष्ठ नागरिकों, अलंकरण शास्त्रियों को साहित्य सारंग, साहित्य भास्कर, काव्य प्रभाकर, समर्थ गुरु, साहित्य चेतक, साहित्य मनोहर आदि अलंकरण सम्मान पत्रों से सम्मानित किया गया। आजादी के अमृत महोत्सव में कुल 725 सम्मान पत्रों का वितरण हुआ जिसे सभी ने सराहा। सभी का प्रयास रहा कि देश के आजादी के अमृत महोत्सव में वे भी अपनी रचनाओं के माध्यम से सहभागिता करें और गौरवान्वित हों आजादी की गाथा को जानकर। रचनाकारों ने देशभक्ति पर आधारित कविताओं की प्रस्तुति दी। इस अवसर पर शामिल सभी सदस्यों का कहना था कि आनलाइन आयोजनों से सभी का उत्साह बना रहता है और कोविड के दौरान भी लोग निरंतर रचना कर रहे हैं।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local