जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जबलपुर रेलवे स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था को रेलवे और मजबूत करने जा रहा है। इस स्टेशन पर रेलवे वीएसएस सिस्टम यानि वीडिया निगरानी सिस्टम लगाएगा। इसकी मदद से रेलवे स्टेशन के अंदर-बाहर ही नहीं बल्कि ट्रेन में चढ़ने और उतरने वाले यात्रियों पर नजर रखी जाएगी। यह काम रेलवे की एक संस्था रेलटेल करेगी। इस योजना के पहले चरण में जबलपुर समेत देश के 756 रेलवे स्टेशनों को लिया गया है। इसमें पश्चिम मध्य रेलवे के 15 स्टेशन शामिल हैं। इन सिस्टम को लगाने का काम जनवरी 2023 तक पूरा किया। दूसरे चरण में रेलवे के अन्य स्टेशनों में शामिल करने की योजना है। इन सिस्टम में लगने वाले सीसीटीवी कैमरों से मिलने वाली वीडियो की रिकॉर्डिंग 30 दिनों के लिए आरपीएफ के पास स्टोर रहेगी।

पमरे के इन स्टेशनों पर लगेंगे ये सिस्टम

पश्चिम मध्य रेलवे के स्टेशनों में जबलपुर के अलावा कटनी, मैहर, सतना, रीवा, दमोह, सागर के साथ बीना, रानी कमलापति, होशंगाबाद, विदिशा, भरतपुर, सवाईमाधोपुर एवं कोटा रेलवे स्टेशनों को लिया गया है। इन सिस्टम को रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ाने में उपयोग होगा। स्टेशनों पर इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी) आधारित वीडियो निगरानी प्रणाली (वीएसएस) लगाने के लिए रेलटेल ने काम शुरू कर दिया है। इसमें खासतौर पर स्टेशन के प्रतीक्षालय, आरक्षण काउंटर, पार्किंग क्षेत्र, मुख्य प्रवेश और निकासी, प्लेटफार्म, फुट ओवर ब्रिज, बुकिंग कार्यालय आदि में ये कैमरे लगेंगे।

इसलिए खास है यह सिस्टम

पमरे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राहुल जयपुरिया ने बताया कि इस सिस्टम में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई), इनेबल वीडियो एनालिटिक्स सॉफ्टवेयर और फेसियल रिकॉगनिशन सॉफ्टवेयर काम करेगा। इसकी मदद से देश के जाने-पहचाने अपराधियों के स्टेशन परिसरों में आते ही कैमरे उन्हें पहचान लेंगे। इसके बाद उनकी तस्वीर सिस्टम को दिखने लगेगी और संबंधित सुरक्षा एजेंसी को अलर्ट जारी होगा। कैमरों, सर्वर, यूपीएस और स्विचों की मॉनिटरिंग के लिए नेटवर्क मैनेजमेंट सिस्टम (एनएमएस) लगाया जाएगा। इसमें आईपी कैमरे (डॉम टाइप, बुलेट टाइप, पैन टिल्ट जूम टाइप और अल्ट्रा एचडी-4के) लगेंगे, ताकि रेलवे परिसरों के भीतर अधिकतम क्षेत्र को कैमरे की निगरानी में लिया जा सके।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close