जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। रांझी में इंद्रा आवास कालोनी में रहने वाले सेवानिवृत्त फौजी रामाधार प्रजापति 52 वर्ष ने शनिवार को अपने लाइसेंसी बंदूक से गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। शुरुआती जांच के मुताबिक मामले में पति, पत्नी और वो कहानी सामने आई है। रामाधार का किसी अन्य महिला से संबंध जुड़ गया था, जिसके कारण पत्नी ने तलाक का केस चल रहा था। मर्ग कायम कर पुलिस मामले की जांच में जुटी है। पुलिस ने बंदूक जब्त कर ली है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप शेंडे, टीआइ सहदेव राम साहू ने घटनास्थल का जायजा लिया। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने घटना की जांच के निर्देश दिए हैं।

यह है मामला-

इंद्रा आवास कालोनी निवासी रामाधार प्रजापति जीआरसी ग्रेनेडियर्स रेजिमेंटल सेंटर में नौकरी करता था। मूलत: अतरहा उत्तर प्रदेश निवासी रामाधार 2017 में सेवानिवृत्त होने के बाद बैंक में गार्ड की नौकरी करने लगा था। बीती रात वह शराब के नशे में धुत होकर घर पहुंचा। शनिवार सुबह उसने घर के मुख्य द्वार पर ताला लगाया और लायसेंसी बंदूक लेकर बाहर निकला। गेट के बगल पहुंचकर उसने खुद की जांघ पर गोली चला दी। गोली चलने की आवाज सुनकर उसके किराएदार व कालोनी के लोग मौके पर पहुंचे। खून से लथपथ रामधार गेट के पास फर्श पर औंधे मुंह पड़ा मिला। नागरिकों ने पुलिस व एंबुलेंस को सूचना दी। पुलिस व एंबुलेंस पहुंचने से पहले उसकी मौत हो चुकी थी। पड़ोसी के घर लगे सीसीटीवी कैमरे में रामधार द्वारा स्वयं को गोली मारने की घटना कैद हो गई। गोली मारने से पहले रामाधार ने अपना मोबाइल, बैंक से पैसे निकालने का फार्म, हिसाब किताब की डायरी जेब में रख ली थी।

सात माह से मायके में थी पत्नी-

पुलिस की प्रारंभिक जांच में पता चला कि रामाधार का मदनमहल क्षेत्र निवासी महिला के घर आना जाना था। महिला भी अक्सर रामाधार से मिलने इंद्रा आवास कालोनी जाती थी। दोनों के संबंधों का पता चलने के बाद पत्नी व बच्चों ने विरोध करना शुरू कर दिया था। जिसके चलते पत्नी सरस्वती बच्चों के साथ विजयनगर स्थित मायके में रहने लगी थी। इससे पूर्व पति पत्नी में अक्सर विवाद होता था। विवाद के चलते महिला थाने में दोनों की काउंसलिंग कराई गई थी। रामधार ने पत्नी से तलाक के लिए कोर्ट में केस लगाया था। रामाधार के तीन बच्चेे हैं। बेटा शुभम व बेटी मोनिका बेंगलुरु में पढ़ाई व नौकरी करते हैं। छोटी बेटी अंबिका बीटेक की पढ़ाई कर मां के साथ रहती है।

सात माह पहले भी चलाई थी गोली-

पुलिस ने बताया कि रामधार अत्यधिक मात्रा में शराब का सेवन करता था। पत्नी से विवाद के कारण उसने करीब सात माह पूर्व भी गोली चलाई थी। परंतु गोली दरवाजे पर लगी थी। उस समय बेटा घर पर था जिसने बंदूक छीन ली थी। तभी से सरस्वती मायके में रहने लगी थी।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close