जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। घूंसे का बदला लेने के लिए तीन सगे भाइयों ने एक युवक के चेहरे पर कुल्हाड़ी मार दी। जान लेने की नीयत से उसके चेहरे सीधी कुल्हाड़ी चलाई जिससे नाक से लेकर माथे तक चेहरे का हिस्सा बुरी तरह फट गया। कुल्हाड़ी से हमला करने के साथ दोनों भाइयों को लाठी से पीटा गया। घटना पाटन के सकरा गांव में गुरुवार शाम करीब चार बजे की है। वारदात को अंजाम देकर भागे भाइयों ने रात भर पुलिस को खूब छकाया लेकिन 12 घंटे के भीतर वे पकड़ लिए गए।

घटना के संबंध में पाटन थाना प्रभारी आसिफ इकबाल ने बताया कि सकरा गांव में निवासी राकेश उर्फ रक्कू यादव 29 वर्ष पर गांव में ही रहने वाले मन्नू उर्फ मनू भूमिया 42 वर्ष, मदन भूमिया 39 वर्ष तथा बुद्धि भूमिया 30 वर्ष ने रंजिश भुनाने के लिए शुक्रवार शाम रक्कू पर हमला कर दिया था। मदन भूमिया ने उस पर कुल्हाड़ी चलाई तथा उसके अन्य दो भाई लाठी लेकर टूट पड़े। तीनों उसे तब तक मारते रहे जब तक वह बेहोश नहीं हो गया। गांव वालों ने विरोध किया तो सभी काे जान से मारने की धमकी देते हुए वे भाग गए। धारा 294, 324, 307, 506, 34 का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना की जा रही है।

चार दिन पूर्व हुआ था विवाद: थाना प्रभारी ने बताया कि चार दिन पूर्व किसी विवाद के चलते राकेश ने मदन को घूंसा मार दिया था। गुरुवार शाम राकेश खेत में मवेशी चराने गया था। उससे कुछ दूर पर उसका रिश्ते का भाई भी अपने मवेशी चराने गया था। तभी मदन कुल्हाड़ी तथा मनू व मदन लाठी लेकर वहां पहुंचे। आज इसको निपटाना है बोलकर उस पर टूट पड़े। गिरफ्त में आए आरोपित ने बताया कि घूंसे की मार से हुई बेइज्जती वह बर्दाश्त नहीं कर पा रहा था। जिसके बाद दोनों भाईयों को मारपीट की जानकारी देकर उसे जान से मारने की योजना बनाई। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त खून से सनी कुल्हाड़ी व दो लाठी जब्त कर दी है।

ऐसे बिछाया जाल: थाना प्रभारी इकबाल ने बताया कि वारदात को अंजाम देकर आरोपित भाई घटनास्थल से फरार हो गए थे। घर वालों से पूछताछ में पता चला कि आरोपितों के पास अतिरिक्त कपड़े हैं न पैसे। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल ने उन्हें पकड़ने के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य करने के निर्देश दिए। जिसके बाद संभावना बनी कि कपड़ों व पैसों के इंतजाम के लिए आरोपित घर पहुंच सकते हैं या उनके स्वजन इस काम में मदद कर सकते हैं। गांव में पुलिस की निगरानी बढ़ा दी गई। जिसके बाद योजनाबद्ध तरीके से रात्रि दो बजे तक गांव में पुलिस का पहरा रहा। वे स्वयं बल के साथ गांव में पेट्रोलिंग करते रहे। रात दो बजे पुलिस बल शासकीय वाहन से गांव से लौट गया। यह सूचना आरोपितों को दी गई कि पुलिस जा चुकी है। सुबह करीब चार बजे आरोपित पैसों का इंतजाम करने के लिए गांव पहुंच गए। इसी बीच टैक्सी वाहनों का इंतजाम कर पुलिस गांव में घुसी और तीनों को दबोच लिया गया। शासकीय वाहन न होने के कारण तीनों को पुलिस के गांव में घूसने की सूचना नहीं मिल पाई और वे पकड़ लिए गए।

इन्हें मिलेगा पुरस्कार: आरोपितों की गिरफ्तारी में थाना प्रभारी इकबाल, एसआइ रवि उपाध्याय, एनपी सोनी, पीएसअाइ प्रदीप सिंह तोमर, अनुराग सिंह तोमर, अमित ठाकुर, अमित पांडेय, मुकेश ठाकुर, विकास राय, अनुराग रैकवार की भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक ने पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

Posted By: Sunil Dahiya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags