जबलपुर,नईदुनिया प्रतिनिधि। धर्मशास्त्र नेशनल ला यूनिवर्सिटी में शुक्रवार को अवकाश के बावजूद अनश्ान जारी रहा। यूनिवर्सिटी के नियम-कायदों को लेकर छात्र विरोध कर रहे थे। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने सालाना फीस समेत कई अलग-अलग तरह से शुल्क बढ़ाने का आदेश जारी किया है। इसी बात को लेकर छात्रों का विरोध हुआ। पांच विद्यार्थी मांगों को पूरा करवाने के लिए अनशन पर बैठे वहीं उनके समर्थन में अन्य विद्यार्थी भी खड़े रहे।

छात्रों ने अपनी मांगों से जुड़ा ज्ञापन प्रशासन को दिया है। इसमें बताया गया है कि प्रशासन ने शार्ट अटेंडेंस को पूरा करने एक्स्ट्रा क्लास लगाती है। पहले इसकी फीस 500 रुपये प्रति विषय थी लेकिन अब 7500 रुपये प्रति विषय की गई है। इसके अलावा सालाना फीस 1.80 लाख रुपये थे जिसे बढ़ाकर 2.20 लाख लड़कों के लिए और 2.50 लाख रुपये लड़कियों के लिए की गई है।छात्र नेता प्रतीक यादव ने बताया कि कालेज प्रबंधन को सालाना 10 प्रतिशत फीस बढ़ाने का नियम है, लेकिन प्रशासन ने एक साथ ही इससे कहीं ज्यादा फीस बढ़ा दी। छात्रों ने बताया कि प्रशासन ने छात्र-छात्राओं के पहनावे को लेकर भी नियम बनाए हैं। इसमें कालेज में लड़कों को सिर्फ जूते पहनकर आना है। चप्पल पहनने पर पहली बार 200, फिर 500 और तीसरी बार एक हजार रुपये जुर्माना लिया जाएगा। इसके बाद अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

छात्रों की फीस नहीं की वापस:

छात्रों ने बताया कि कोरोना काल में छात्रों की छात्रावास शुल्क और अन्य शुल्क को वापस करने का नियम यूजीसी ने लागू किया है, लेकिन यूनिवर्सिटी ने अभी तक छात्रों का शुल्क नहीं वापस किया है। छात्रावास में यदि रात्रि दस बजे के बाद एक मिनट की भी देरी से विद्यार्थी आता है तो उसे अधिकतम दस हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया गया है।

कुलसचिव पर नियम विरुद्ध टेंडर का आरोप:

प्रदर्शनकारी छात्रों का आरोप है कि संस्था में कई नियुक्ति नियम के विपरीत की गई है। इसमें प्रभारी कुलसचिव जलज गोंटिया पर नियम के खिलाफ जाकर बिना निविदा कार्य करवाने का आरोप है। छात्र प्रतीक यादव ने कहा कि दस लाख से ज्यादा की राशि का काम निविदा के माध्यम से होना चाहिए लेकिन कुलसचिव ने एक करोड़ रुपये से ज्यादा के काम आपातकालीन जरूरत बताकर बिना निविदा जारी किए ही करवा लिए हैं। छात्रों ने पूरे मामले की जांच की मांग की है। धरना प्रदर्शन में शशांक तिवारी, आदित्य पुरी, राम तिवारी, अनूप वरदिया शामिल रहे। छात्र प्रतीक यादव ने कहा कि अवकाश के दिन भी विद्यार्थी अनशन कर अपना विरोध दर्ज करवा रहे हैं।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close