जबलपुर। Surya Grahan 2019 साल का अंतिम सूर्य ग्रहण आज करीब 10:57 बजे समाप्त हो गया। अब अगला सूर्य ग्रहण 6 महीने बाद 21 जून 2020 को दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण के बाद पुण्य स्नान के लिए नर्मदा तटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ लगना शुरू हो गई है। सूतक खत्म होने के बाद मंदिरा में शुद्धिकरण भी शुरू हो गया है। नर्मदा के प्रमुख घाट, ग्वारीघाट, तिलवाराघाट, सरस्वतीघाट और भेड़ाघाट में सुबह से ही पहुंचने लगे थे। आज हुए ग्रहण से ठीक एक दिन पहले पौष माह में मंगल वृश्चिक में प्रवेश करने वाला है। यह स्थिति बड़े प्राकृतिक आपदा की ओर इशारा कर रही है। इस ज्योतिषीय गणना के मुताबिक, ग्रहण के 3 से 15 दिनों के भीतर भूकंप, सुनामी और अत्यधिक बर्फबारी हो सकती है।

आज धनु राशि में पड़े ग्रहण के 12 घंटे पहले सूतक लग गया था। ज्योतिषियों के मुताबिक सूतक लगने से लेकर ग्रहण के मोक्ष तक भगवान का स्पर्श निषेध माना गया है। इस दौरान लोगों ने भगवान का जप और भजन-कीर्तन किया। यह साल का तीसरा सूर्यग्रहण था, लेकिन पूर्ण सूर्यग्रहण के रूप में यह साल का पहला ग्रहण रहा। इससे पहले ऐसी स्थिति वर्ष 1962 में बनी थी, जब 7 ग्रह एक साथ थे।

6 ग्रह एक साथ : इस बार लगने वाले सूर्यग्रहण में 6 ग्रह एक साथ रहे। हालांकि इसमें 1 की कमी है। 6 ग्रह हैं- सूर्य, चंद्रमा, शनि, बुध, बृहस्पति और केतु। ये 6 ग्रह मुख्य हैं और इनके एक साथ होने से सूर्यग्रहण का प्रभाव लंबे समय तक रहने की उम्मीद है। वर्ष के इस अंतिम सूर्यग्रहण को भारत समेत नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश, भूटान, चीन, ऑस्ट्रेलिया आदि देशों में असर दिखाई देगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket