जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने जबलपुर में अव्यवस्थित पार्किंग की समस्या को गंभीरता से लेते हुए जनहित याचिकाकर्ता जनहित याचिकाकर्ता ऑल इंडिया वूमेंस कॉफ्रेंस की सचिव व अधिवक्ता को जागरुकता प्रसारित करने की जिम्मेदारी सौंप दी थी। इसके लिए पम्पलेट सहित विभिन्न तरीके अपनाने पर जोर दिया गया था। इस संपूर्ण कवायद की स्टेटस रिपोर्ट पेश करने कहा गया था। जिसके पालन में अधिवक्ता आदित्य संघी ने भरपूर प्रयास किया। उन्होंने शहर में अपने कनिष्ठ अधिवक्ता दौड़ा दिए।

उल्लेखनीय है कि कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश संजय यादव व जस्टिस बीके श्रीवास्तव की युगलपीठ के समक्ष मामला सुनवाई के लिए लगा था। इस दौरान जनहित याचिकाकर्ता ऑल इंडिया वूमेंस कॉफ्रेंस की सचिव की ओर से अधिवक्ता आदित्य संघी ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिये पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि वैसे तो समस्या बहुत छोटी सी है, लेकिन उसका असर व्यापक होता है। जबलपुर की मॉडल रोड में दोनों तरफ मनमानी पार्किंग कर दी जाती है, इससे राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। सड़क दुर्घटना की आशंका भी बनी रहती है। मॉडल रोड की ही भांति शहर में अन्य सड़कों और यहां तक कि हाई कोर्ट के चारों तरफ भी मामनी पार्किंग एक बड़ी समस्या बनी हुई है। इससे ट्रेफिक जाम आम हो गया है।

पब्लिक प्लेस में पार्किंग मेनर्स सिखाएं : हाई कोर्ट ने पूरे मामले पर गौर करने के बाद जनहित याचिकाकर्ता व अधिवक्ता को जबलपुर शहर में जगह-जगह लोगों को पब्लिक प्लेस में पार्किंग मेनर्स सिखाने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंप दी। इसके लिए विभिन्न समाचार पत्रों का भी सहारा लेने का सुझाव दिया गया था। इसके पालन में हुए प्रयास की रिपोर्ट तैयार है। शीघ्र पेश की जाएगी।

Posted By: Ravindra Suhane

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस