जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। साउथ सिविल लाइन पचपेढ़ी में सड़क किनारे लगे हरे-भरे पेड़ पर कुल्हाड़ी चला दी गई। एक निर्माणाधीन मकान के सामने दिन दहाड़े इस घटना को अंजाम दिया गया। घटनास्थल के समीप सड़क किनारे डेयरी का संचालन किया जाता है। क्षेत्रीय नगारिकों ने बताया कि पचपेढ़ी में तमाम जनप्रतिनधियों, अधिकारियों व व्यापारियों के आवास हैं। जहां दिन-रात लोगों का आना जाना लगा रहता है। बुधवार को करीब 50 साल पुराने पेड़ को काटकर धराशायी कर दिया गया। नागरिकों का कहना है कि कोरोना संक्रमण काल में आक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ा। जिसके बाद लोगों को वृक्षों की उपयोगिता का पता चला। कोरोना काल में हुई आक्सीजन की किल्लत के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रकृति संरक्षण के लिए रोजाना पौधरोपण कर रहे हैं। वहीं शहर की पाश कालोनी में हरियाली को नष्ट किया जा रहा है।

भवन की सुंदरता बढ़ाने काट दिया पेड़: स्थानीय नागरिकों ने बताया कि निर्माणाधीन भवन की सुंदरता बढ़ाने के लिए वृक्ष को काटा गया है। वृक्ष काटने वालों तथा इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। नागरिकों ने कहा कि वृक्ष को जब काटा जा रहा था, कुछ लोगों ने रोकने का प्रयास किया था। परंतु उनकी बातों को अनसुना कर पेड़ को धराशायी कर दिया गया। नगर निगम से वृक्ष को काटने की अनुमति ली गई थी अथवा नहीं, इसका पता नहीं चल पाया है। स्थानीय नागरिकों ने बताया कि उन्होंने नगर निगम प्रशासन को हरे भरे पेड़ को काटे जाने की सूचना दी थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local