जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मदनमहल रेल अंडर ब्रिज से वाहनों की आवाजाही बंद हुए डेढ़ माह से ज्यादा वक्त हो गया। इस दौरान रेलवे ने ब्रिज का लगभग 60 फीसद काम पूरा कर दिया है। इस ब्रिज की लंबाई को लगभग 10 मीटर बढ़ाया जाना है। अभी तक अंडर ब्रिज बनाने या फिर इसकी लंबाई बढ़ाने के लिए रेलवे सीमेंट के बने-बनाए बॉक्स उपयोग करता है, लेकिन इस ब्रिज में इनका उपयोग नहीं हो रहा। रेलवे इन बॉक्स को खुद ही बॉक्स बना रहा है। इसके लिए उसने अनुभवी टीम की मदद ली है।

प्लेटफार्म पर बना पहला अंडर ब्रिज: मदनमहल अंडर ब्रिज प्रदेश का ऐसा पहला ब्रिज है, जो मुख्य रेलवे स्टेशन के नीचे से गुजरता है। इस ब्रिज के ऊपर प्लेटफार्म बने हुए हैं, जिससे न सिर्फ ट्रेनें गुजरेंगी बल्कि खड़ी भी रहेंगी। यही वजह है कि जबलपुर रेल मंडल इसकी मजबूती पर खास जोर दे रहा है। उन्होंने ब्रिज पर इंजन और कोच के लोड पर भी अध्ययन किया है, ताकि भविष्य में यदि मदनमहल रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों का लोड बढ़ता है तो ब्रिज इस लोड आसानी से उठा सके।

29 फरवरी के पहले होगा काम: मदनमहल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म 1 की ओर अंडर ब्रिज की लंबाई को 10 मीटर लंबा और तकरीबन 6 मीटर चौड़ा किया जा रहा है। इससे पहले प्लेटफार्म 1 की चौड़ाई बढ़ा दी गई है। अब सिर्फ ब्रिज को लंबा कर इसके ऊपर का हिस्सा चौड़ा किया जाना है। रेलवे के मुताबिक वह यह काम 29 फरवरी से पहले कर लेगा, ताकि इसकी जांच कर 1 मार्च से ब्रिज को आम लोगों के लिए खोल दिया जाए।

Posted By: Sunil Dahiya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags