जबलपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि। अफ्रीकन देश बोत्सवाना से जबलपुर आईं ओ एल खुमो 34 वर्ष सीएमएम के छात्रावास में मिलीं। बोत्सवाना में आर्मी कैप्टन खुमो अपने देश की ओर से भारतीय सेना द्वारा संचालित कालेज आफ मटेरियल मैनेजमेंट सीएमएम में नौ माह का प्रशिक्षण लेने आई हैं। एडवांस लाजिस्टिक कोर्स के प्रशिक्षण से पूर्व सीएमएम के छात्रावास में उन्हें 10 दिन के लिए क्वारंटीन किया गया था।

बोत्सवाना से आई सैन्य अधिकारी का पता लगाने में पुलिस की भूमिका रही। स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों ने सीएमएम पहुंचकर सैन्य अधिकारी का स्वास्थ्य परीक्षण किया। उनमें कोरोना के संभावित लक्षण नहीं मिले हैं। एहतियात के तौर पर कोरोना जांच के लिए आरटीपीसीआर सैंपल आइसीएमआर एनआइआरटीएच (नेश्ानल इंस्टीट्यूट आफ रिसर्च इन ट्राइबल हेल्थ) भेजा गया है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रत्नेश कुरारिया ने बताया कि 28 नवंबर को सूचना मिली थी कि बोत्सवाना से जबलपुर आई महिला का पता नहीं चल रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम तलाश में जुटी है। प्रशासन व पुलिस का सहयोग लिया गया। सोमवार को पुलिस से पता चला कि बोत्सवाना से आई महिला सीएमएम छात्रावास में हैं। जिसके बाद डॉ. विभोर हजारी व डॉ. प्रियंक दुबे को मौके पर भेजा गया।

दिल्ली में मिली मोबाइल की लोकेशन

इधर, रविवार से महिला सैन्य अधिकारी खुमो की पतासाजी की जा रही थी। हवाई टिकट बुकिंग के लिए उन्होंने जो मोबाइल नंबर दिया था उसकी अंतिम लोकेशन एक अक्टूबर से लगातार दिल्ली में मिली। जबकि डुमना विमानतल पर लगे सीसीटीवी कैमरों में 18 नवंबर को वे नजर आईं। यह जानकारी मिलने पर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने अधीनस्थों को पतासाजी की जिम्मेदारी सौंपी। अंतत: पुलिस टीम ने उनका पता लगा लिया।

बोत्सवाना में लग चुकी है वैक्सीन

सीएमएचओ डॉ. कुरारिया ने बताया कि सैन्य अधिकारी खुमो को बोत्सवाना में कोरोना की वैक्सीन लगाई जा चुकी है। वे पूरी तरह स्वस्थ हैं। कोरोना के कोई लक्षण उनमें नहीं मिले। सीएमएम के सैन्य अधिकारियों ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका से आने के बाद खुमो को 10 दिन के क्वारंटीन में रखा गया था। वह अवधि पूर्ण होने के बाद उन्हें प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने की अनुमति दी गई।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local