जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शिक्षा में हुए नए बदलाव के साथ ही अब नव प्रवेशित छात्रों के नामांकन का सिलसिला अभी शुरू नहीं हो पाया है जबकि दिसंबर में सेमेस्टर परीक्षा शुरू होनी है। यदि नामांकन वक्त पर नहीं हुआ तो परीक्षा करना मुश्किल होगा। इसकी वजह से विद्यार्थियों को ब्योरा ही रानी दुर्गावती विश्‍वविद्यालय प्रशासन के पास नहीं होगा। सत्र 2021-22 से उच्च शिक्षा विभाग ने नामांकन की व्यवस्था विश्वविद्यालय की बजाए कालेजों को सौंप दी है जिस वजह से ये समस्या आ रही है।

दिसंबर से तय किया शेड्यूल : उच्च शिक्षा विभाग ने कोरोना संक्रमण के चलते पिछड़ते शिक्षण सत्र को लेकर 16 दिसंबर से परीक्षाएं कराने का निर्णय लिया है। इस संबंध में सभी विश्वविद्यालयों को भी आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। कॉलेजों में स्नातक स्तर पर नव प्रवेशित हुए छात्रों के साथ ही स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर के छात्रों का नामांकन कराना होगा। लेकिन जिले में अब तक कॉलेजों ने अभी तक प्रक्रिया शुरू नहीं की है। ऐसे में स्नातकोत्तर प्रथम और तृतीय सेमेस्टर की परीक्षा शुरू हाेनी है। नामांकन नहीं होने की वजह से प्रशासन परीक्षा कार्यक्रम तय नहीं कर पा रहा है।

55 हजार छात्र कॉलेजों में : जानकारों के अनुसार स्नातक स्तर पर जिले में करीब 55 हजार छात्रों के प्रवेश लेने का अनुमान है। चूंकि प्रवेश प्रक्रिया 30 नंवबर तक चली है ऐसे में छात्रों की संख्या के बढ़ने का भी अनुमान लगाया गया है। पीजी फर्स्‍ट सेम के करीब 10 हजार छात्र बताए जाते हैं। इन छात्रों का इनरोलमेंट कराने की जवाबदारी कॉलेजों पर डाली गई है इसी के आधार पर ही संबंधित छात्र का रिकार्ड विश्वविद्यालय में दर्ज होगा। हालांकि डीइटी के माध्यम से एमबीए में प्रवेश लेने वाले एवं एनसीटी के माध्यम से आने वाले छात्रों का इनरोलमेंट पूर्व की तरह होगा।

--------------

इस वर्ष से नई व्यवस्था के तहत विवि की जगह कॉलेजों को नामांकन की जवाबदारी दी गई है। कालेज स्तर पर अभी यह प्रक्रिया प्रारंभ नहीं हो पाई है। इससे परीक्षा समय पर होना मुश्किल है।

-प्रो.आरके गुप्ता, आनलाइन प्रवेश प्रभारी रादुविवि

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local