जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना महामारी ने लगातार दूसरे दिन तीसरा शतक लगाया है। शुक्रवार को प्रशासन द्वारा जारी 5 हजार 422 सैंपल की रिपोर्ट में 5.82 फीसद पाजिटिविटी दर से 316 नए मरीज सामने आए। जिसके बाद जिले में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर एक हजार 808 हो गई है। हालांकि इस अवधि में 95 मरीज कोरोना संक्रमण से मुक्त हुए। इधर, मेडिकल कालेज अस्पताल में 90 साल की वृद्धा ने कोरोना संक्रमण को हरा दिया। भर्ती होने के आठ दिन बाद उन्हें आइसोलेशन से छुट्टी दी गई। मेडिकल के डीन डा. प्रदीप कसार ने बताया कि वृद्धा को ब्लडप्रेशर के साथ व ह्दय रोग की परेशानी पहले से थी। कोविड वार्ड में उनकी सेहत पर 24 घंटे नजर रखने के लिए अमला तैनात किया गया था। बेेहतर उपचार और आत्मबल से उन्होंने कोरोना संक्रमण पर विजय पाई।

सर्वाधिक मरीज 25-50 वर्ष के: कोरोना संक्रमण का सर्वाधिक असर 25 से 50 वर्ष की आयु वर्ग में सामने आ रहा है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. रत्नेश कुरारिया ने बताया कि दरअसल, इस उम्र के लोग ज्यादा संख्या में घरों से बाहर निकल रहे हैं। इसलिए आसानी से कोराेना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। इस आयु वर्ग में भी 60-65 फीसद वे लोग शामिल हैं जो पहले से किसी गंभीर बीमारी की चपेट में हैं।

कामकाजी लोग सतर्कता बरतें: डा. कुरारिया ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। शहर के अधिकांश क्षेत्रों में संक्रमण फैलने की जानकारी सामने आ रही है। कामकाजी लोगों को ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है। घरों से बाहर निकलने व असावधानी के कारण उनके संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। बाहर से संक्रमित होकर वे घर पहुंचते हैं जिससे स्वजन की सेहत खतरे में पड़ती है।

सेल्फ टेस्ट किट की बिक्री पर रोक: जिला औषधि प्रशासन विभाग ने कोरोना की सेल्फ टेस्ट किट की बिक्री पर फिलहाल रोक लगा दी है। औषधि नियंत्रक भोपाल ने इस संबंध में औषधि प्रशासन विभाग से जानकारी मांगी थी। जिसके बाद औषधि निरीक्षक ने दवा बाजार का निरीक्षण कर थोक व्यापारियों से सेल्फ टेस्ट किट के स्टाक का ब्यौरा मांगा। औषधि निरीक्षक शरद कुमार जैन ने बताया कि थोक व्यापारियों के पास फिलहाल 15 सौ सेल्फ टेस्ट किट उपलब्ध है। नए दिशा निर्देश जारी होने तक व्यापारियों को इस किट की बिक्री रोकने के लिए कहा गया है। विदित हो कि सेल्फ टेस्ट किट खरीदकर लोग स्वयं कोरोना की जांच करने लगे थे। हालांकि इस किट से कोरोना के स्टेन का पता नहीं चल पाता है।

Posted By: Ravindra Suhane

NaiDunia Local
NaiDunia Local