जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। इन दिनों जिला प्रशासन द्वारा धान उपार्जन व्यवस्था को बिगड़ने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है। इसके लिए जिले में गोदामों एवं भंडारण स्थलों की प्रशासनिक अमले द्वारा जांच की जा रही है। गुरुवार को अनुविभागीय दंडाधिकारी सिहोरा आशीष पांडे ने गोसलपुर में तीन गोदामों का आकस्मिक निरीक्षण किया। जांच के दौरान उन्हें यहां पर संदिग्ध रूप से धान का भंडारण मिला, जिसके बाद उन्होंने कार्रवाई करते हुए तीनों गोदामों को सील कर दिया गया। अनुविभागीय दंडाधिकारी श्री पांडे ने बताया कि निरीक्षण के दौरान गोसलपुर स्थित मगनलाल पटैल द्वारा आनंद मोहन साहू को किराये पर दी गई दुकान सह गोदाम में एक हजार कट्टी धान रखी पाई गई। संदेहास्पद होने पर इस दुकान सह गोदाम को सील कर दिया गया। इसी तरह गोसलपुर में ही सुखदेव पटैल के दो गोदामों की भी आकस्मिक जांच की गई है। उनके एक गोदाम को 580 बोरी और दूसरे गोदाम को 270 बोरी धान का भंडारण पाए जाने पर सील कर दिया गया है।

एसडीएम सिहोरा ने विभागों के साथ की बैठक : सिहोरा तहसील के ग्राम गोसलपुर एवं अलगोडा में अनुविभागीय राजस्व अधिकारी आशीष पांडे ने कृषकों की बैठक लेकर उनसे खेतों में नरवाई न जलाने का अनुरोध किया। इस मौके पर श्री पांडे ने यूरिया एवं डीएपी के उपलब्ध विकल्पों के बारे में किसानों को जानकारी दी तथा उर्वरकों के संतुलित इस्तेमाल की सलाह दी। अनुविभागीय राजस्व अधिकारी ने समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन के लिए की जा रही व्यवस्थाओं से भी किसानों को अवगत कराया तथा उनसे आग्रह किया व्यापारियों या बिचौलियों को इस व्यवस्था का अनुचित लाभ न उठाने दें। यदि ऐसा कोई मामला सामने आता है तो तत्काल इसकी जानकारी तहसीलदार या उन्हें दें। श्री पांडे ने चौपाल लगाकर ग्रामीणों से उनकी समस्याएं सुनी।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local