जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सीएम राइज स्कूलों के लगने का समय अब एक होगा। सुबह 10.30 बजे से विद्यालय लगेगा। शिक्षक और कर्मचारियों को 10 बजे उपस्थिति देनी होगी। जबलपुर में 10 सीएम राइज स्कूल हैं, जिनमें इस समय को लागू किया गया है। अभी कई स्कूल अपने सुविधा के हिसाब से समय तय कर रहे थे। बताया जाता है सीएम राइज स्कूल जो एक पाली में संचालित हो रहे हैं उनका समय सुबह 10.30 से श्ााम पांच बजे तक संचालित करने के निर्देश जारी हुए हैं। इन स्कूलों में पदस्थ कर्मचारी-शिक्षकों को सुबह 10 बजे स्कूल में उपस्थित होना होगा। वे शाम को 5.15 पर विद्यालय छोड़ेंगे। यदि इसके पहले या बाद में कोई आता-जाता है, तो संबंधित शिक्षक के साथ ही प्राचार्य के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

आयुक्त लोक शिक्षण अभय वर्मा ने कहा कि सीएम राइज विद्यालयों का संचालन एक जैसा हो इसके प्रयास किए जा रहे हैं। स्कूलों का समय एक जैसा किया गया है। इसके अतिरिक्त स्कूल स्टाफ शाला के पूर्व एवं बाद में पाठ योजना, अकादमिक विचार-विमर्श, प्राचार्य आवश्यक सहयोग और दैनिक सर्कल टाइम जैसी गतिविधियां पूर्ण कराएंगे। इन निर्देशों का सभी विद्यालय अनिवार्यत: पालन सुनिश्चित करना होगा इसकी जवाबदेही जिला शिक्षा अधिकारी की होगी। गड़बड़ी होने पर संबंधितों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी घनश्याम सोनी ने कहा कि सीएम राइज स्कूलों के समय में एकरूपता लाने के उद्देश्य से यह आदेश जारी हुआ है, जिसका पालन सभी को करना है।

वीर बलिदानियों के बल पर प्राप्त हुआ है आजादी के अमृत का सुख:- रंजीत पटेल

जबलपुर। आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर तिरंगा यात्रा निकाली साथ ही देश की आजादी में अपने प्राण न्यौछावर करने वाले वीर बलिदानियों की जीवंत झांकी निकाल कर उन्हें भी श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस अवसर पर भाजपा नगर मंत्री रंजीत पटेल ने कहा कि पूरा देश आजादी के अमृत महोत्सव की खुशी में सराबोर है और वीर बलिदानियों के बल पर हमे आजादी के अमृत का सुख प्राप्त हुआ है, देश की आजादी के लिए हमारे देश के वीर सपूतों ने हंसते हंसते अपने प्राण न्यौछावर कर दिए तब हम स्वतंत्र हुए हैं अनेकों वीरों ने युवावस्था में शहादत को गले लगाया है उनके चरणों में पूरा देश नतमस्तक है।

Posted By: tarunendra chauhan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close