जबलपुर,नईदुनिया प्रतिनिधि। स्टेट हाइवे पर अब टोल नाके लगाए जा रहे हैं। शुरुआत जबलपुर-पाटन के बीच लगे टोल से हुई है। इसके अलावा अब पांच नए टोल जबलपुर के आसपास लगेंगे। मप्र सड़क विकास निगम ने स्थल चिन्हित कर लिया है। एक पखवाड़े में टोल की प्रक्रिया हो जाएगी। राज्य सरकार फिलहाल व्यावसायिक उपयोग वाले वाहनों पर ही टोल लगा रही है। टोल वसूलने के पीछे एमपीआरडीसी का तर्क है कि सड़कों के रखरखाव खर्च निकालने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

शहपुरा से पिपरिया के बीच चार टोल-

मप्र स्टेट हाईवे में शहपुरा से पिपरिया के बीच चार स्थानों पर टोल नाके लगेंगे। यदि वाहन शहपुरा सेे पिपरिया के बीच चलता है तो उसे चार स्थानों पर टोल देना होगा। ये टोलनाका शहपुरा, नरसिंहपुर, करेली और पिपरिया में लगाए जाएंगे। मप्र रोड डेव्लपमेंट कार्पोरेशन के निदेशक राजेंद्र चंदेल ने कहा कि टोल लगाने का निर्देश शासन स्तर पर होता है। उन्होंने कहा कि दो हफ्ते के अंदर टोल की प्रक्रिया हो जाएगी। इसके बाद टोल लगना शुरू हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस मार्ग के बीच व्यावसायिक गतिविधि वाले वाहनों को टोल देना होगा। इस व्यवस्था से निजी वाहनों को बाहर रखा गया है।

तिलवारा-गोटेगांव के बीच भी टोल-

मप्र रोड डेवलपमेंट कार्पोरेशन ने तिलवारा मार्ग से गोटेगांव के बीच बढ़ते ट्रैफिक को देखकर यहां भी टोल लगाने का निर्णय लिया है। तिलवारा मार्ग से करीब पांच किलोमीटर के करीब टोल नाका बनाया जाएगा। अभी जबलपुर भोपाल राष्ट्रीय राजमार्ग की बजाय वाहन चालक तिलवारा से होते हुए चरगवां और गोंटेगांव की तरफ जाते थे इसकी वजह शहपुरा के करीब टोल लगना है। वहीं चरगवां सड़क भी शानदार बनने की वजह से यहां यातायात बढ़ गया है। अब राज्य सरकार इस सड़क को भी टोल के दायरे में रखकर व्यावसायिक वाहनों की आवाजाही से राशि वसूलने की तैयारी कर रही है।

परिवहन होगा महंगा-

टोल लगने की वजह से परिवहन का खर्च बढ़ेगा। लोडिंग आटो से लेकर ट्रकों तक से टोल लिया जाएगा। इसके बाद परिवहन का कार्य करने वाले उपभोक्ताओं से इस राशि को वसूलेंगे। इसका सीधा असर आम आदमी की जेब पर होगा।

Posted By: tarunendra chauhan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close