जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सैर कराने के बहाने साले को काकड़ खो की खाई में ले जाकर जीजा ने एक हजार फीट ऊंचाई से गहरी खाई में फेंककर उसकी हत्या कर दी थी। धार के मांडव थाना क्षेत्र में हुई जबलपुर निवासी 16 वर्षीय अतुल मिश्रा की अंधी हत्या का खुलासा करते हुए पुलिस ने यह जानकारी दी है। पुलिस ने आरोपित जीजा व वारदात में शामिल उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार आरोपितों अभिषेक मिश्रा 24 वर्ष पिता राम विनोद मिश्रा निवासी ग्राम कौआ ढान थाना शहपुर जिला रीवा वर्तमान पता राजेश जाट का मकान ग्राम रेवड़ थाना पृथ्वीपुर जिला धार तथा उसके दोस्त मयंक द्विवेदी पिता स्व. प्रवीण द्विवेदी 22 वर्ष निवासी ग्राम बारी माधवगड़ थाना रामपुर बाघेलान जिला सतना वर्तमान पता गायत्री चौधरी का मकान ग्राम रेवड़ थाना पृथ्वीपुर जिला धार को कोर्ट के निर्देश पर जेल भेज दिया गया। आरोपित अभिषेक मृत किशोर का जीजा है। इस दौरान गढ़ा टीआइ राकेश तिवारी मौजूद रहे।

यह है मामला-

सीएसपी गढ़ा तुषार सिंह ने बताया कि 345 जेडीए स्टोर के पास निवासी निर्मला मिश्रा ने 14 जून को अपने बेटे अतुल मिश्रा 16 वर्ष के लापता होने की सूचना दी थी। उन्होंने बताया था कि 11 जून को सुबह 10.30 बजे अतुल घर से निकला था। बाद में उन्हें पता चला कि उनका दामाद अभिषेक मिश्रा जबलपुर आया था। जो बहला फुसलाकर उनके बेटे अतुल को अपने साथ ले गया। अपहरण की एफआइआर दर्ज कर अतुल की तलाश की जा रही थी। पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा के निर्देश पर अतुल की तलाश में पुलिस की कई टीमों को सक्रिय किया गया। सार्वजनिक स्थलों के सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए।

मांडव पहुंची पुलिस, शव की शिनाख्त-

पुलिस को पता चला कि धार के मांडव थाना क्षेत्र में अज्ञात किशोर का शव काकड़ खो की खाई में 13 जून को पाया गया था। मृतक की शिनाख्त न होने के कारण पोस्टमार्टम उपरांत शव को दफना दिया गया था। शव की शिनाख्त करने के लिए गढ़ा पुलिस टीम निर्मला मिश्रा समेत अन्य स्वजन को लेकर मांडव पहुंची। जहां मृतक के कपड़े, फोटो देखकर उसकी पहचान अतुल मिश्रा के रूप में की गई। दफन शव को बाहर निकालकर स्वजन को सौंपा गया। शव लेकर स्वजन रीवा चले गए थे।

यह भी पढ़ें ः Corona in Jabalpur Update : 24 घंटे में कोरोना के आठ मरीज मिले

रेवड़ में पकड़ा गया मयंक-

सीएसपी ने बताया कि इस बीच पता चला कि मयंक द्विवेदी ग्राम रेवड़ थाना पृथ्वीपुर में है। पुलिस टीम ने घेराबंदी कर उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उसने बताया कि अभिषेक मिश्रा के साथ मिलकर उसने अतुल को खाई में फेंक दिया था। जिसके बाद अभिषेक मिश्रा को भोपाल में पकड़ा गया। अभिषेक मिश्रा के पृथ्वीपुर क्षेत्र स्थित कमरे से अतुल का पिट्ठू बैग एवं मयंक द्विवेदी के कमरे से उसका टिफिन और पर्स जब्त किया गया।

इसलिए की हत्या-

अभिषेक मिश्रा ने पूछताछ में बताया कि उसका साला अतुल मिश्रा उसकी पत्नी के चरित्र को लेकर अपशब्द कहता था, जिसकी जानकारी उसे पत्नी ने दी थी। पत्नी के चरित्र पर लांछन बर्दाश्त नहीं कर पाया और अतुल की हत्या की साजिश रची। उसने अपने साथी मंयक को वारदात में शामिल किया। नवंबर 2021 में उसने अतुल की बहन से प्रेम विवाह किया था। 11 जून को ट्रेन से जबलपुर पहुंचा। पत्नी मायके में थी, जिससे मिलने के लिए उसे रामपुर बुलाया। पत्नी साले अतुल के साथ पहुंची थी। पत्नी मायके लौट गई और वह धार स्थित निजी कंपनी में नौकरी दिलाने के बहाने अतुल को साथ लेकर चला गया। अतुल को ट्रेन से लेकर जा रहा था। उज्जैन में उसके मोबाइल पर ससुराल वालों का फोन आया। साले से बात कराने के बाद उसने मोबाइल बंद कर लिया था। 12 जून को मयंक द्विवेदी के साथ बस में अतुल को लेकर घुमाने के बहाने काकड़ खो पहुंचा। जहां खांई के पास ले जाकर अतुल के साथ मारपीट की। अतुल को उठाकर काकड़ खो की खाई में लगभग एक हजार फीट ऊंचाई से फेंककर हत्या कर दी थी।

इनकी रही भूमिका-

अंधी हत्याकांड के खुलासे में थाना प्रभारी गढा़ राकेश तिवारी, उप निरीक्षक विनोद कुमार द्विवेदी, निर्भय सिंह, प्रशांत शुक्ला, आरक्षक सचिन, अश्विनी, संतोष जाट, नीरज सेन, पुलिस लाइन में पदस्थ एएसआइ विजय शुक्ला, राजेश शुक्ला, प्रधान आरक्षक ज्ञानेंद्र पाठक, अजय यादव, आनंद तिवारी, सायबर सेल के प्रधान आरक्षक अमित पटेल की भूमिका रही।

Posted By: Mukesh Vishwakarma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close