जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि Jabalpur GST News कोरोना काल में लगाए गए लाकडाउन के चलते व्‍यापारियों का व्‍यापार भी बुरी तरह से प्रभावित है। ऐसे में जीएसटी रिटर्न दाखिल करने को लेकर व्‍यापारियों की मुश्किलें बढ़ गई है। व्‍यापारियों की परेशानी को देखते हुए जबलपुर चैम्‍बर ऑफ कामर्स एंड इंडस्‍ट्री ने जीएसटी काउंसिल चेयरमेन को ई-मेल कर जीएसटी रिटर्न करने की मियाद आगे बढ़ाने की मांग की है।

30 जून तक बढ़ाया जाए समय: जबलपुर चैम्‍बर के वरिष्‍ठ उपाध्‍यक्ष हिमांशु खरे ने बताया कि चैम्‍बर ने जीएसटी आर-1 जीएसटी आर तीन बी आदि जैसे जीएसटी रिटर्न के लिए तय की गई समय सीमा समाप्त करने की मांग की है। साथ ही जीएसटी परिषद अध्यक्ष के समक्ष से मार्च, अप्रैल और मई 2021 की सभी जीएसटी की विवरणों के लिए 30 जून 2021 तक का समय बढ़ाने का अनुरोध किया है।

कोरोना कर्फ्यू से बिगड़े हालात: ई-मेल के माध्‍यम से कहा गया है कि हमारे सदस्यों की एक बड़ी संख्या है, जो ज्यादातर छोटे और मध्यम स्तर के व्यापारी हैं। कोविड महामारी और मप्र में परिणामी कोरोना कर्फ्यू की वजह से अत्यधिक प्रतिकूल परिस्थितियों के कारण विभिन्न जीएसटी रिटर्न तय समय सीमा में फ़ाइल होना मुश्किल है तथा कर विशेषज्ञ समय सीमाओं के अनुपालन में समस्याओं का सामना कर रहे हैं।

नगदी का प्रवाह ठहरा: जबलपुर चैम्बर की कर समिति के संयोजक कर अधिवक्ता अभिषेक ध्यानी ने कहा ने कहा कि व्यापारियों के साथ-साथ कर सलाहकार और उनके कर्मचारी कोरोना की वजह से अपने कार्यालय को संचालित करने में असमर्थ हैं। इस प्रकार, से जीएसटीआर वन दाखिल करने में असमर्थ हैं और बदले में डीलर आईटीसी का लाभ उठाने में असमर्थ हैं। अधिकांश क्षेत्रों में नकदी प्रवाह में ठहराव आ गया है।ज्यादातर मामलों में, उनके परिवारों के लगभग सभी सदस्य कोविड पॉजिटिव है, जिससे जबरदस्त वित्तीय कठिनाइयों के साथ-साथ मानसिक आघात भी होता है। चेंबर के सदस्यों ने काउंसिल से राजस्व विचारों से ऊपर उठकर मानवीय और व्यावहारिक कदम उठाने का अनुरोध किया है।

व्‍यापारियों को मिले छूट: जबलपुर चैम्बर के चेयरमैन प्रेम दुबे ने कहा कि वर्तमान विषम परिस्थितियों में चूंकि लाकडाउन लगाया गया है। अतः जीएसटी, आयकर , बैंक ब्याज , विभिन्न ईएमआई , संपत्ति कर , मेडिकल बीमा , बिजली बिल , स्कूल फीस आदि में व्यापारियों को छूट के साथ विभिन्न प्रकार के रिटर्न फाइल करने में उचित समय की छूट , व सभी प्रकार की शस्तियां समाप्त करने जैसे कदम उठाए जाने की आवश्यकता है ताकि व्यापारियों को कुछ संबल प्राप्त हो सके।

Posted By: Sunil Dahiya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags